लखनऊ: उत्तर प्रदेश सरकार के मंगलवार को पेश 2020-21 के बजट में तेजाब, बलात्कार, मानव तस्करी तथा हत्या प्रकरणों के पीड़ितों को आर्थिक सहायता के लिये एक नई योजना ‘केन्द्रीय पीड़ित मुआवजा कोष योजना’ की घोषणा की गई है. इसके तहत 28 करोड़ रूपये का प्रावधान किया गया है. वित्त मंत्री सुरेश खन्ना ने मंगलवार को विधानसभा में बजट पेश करते हुये कहा कि ‘हमारी सरकार ने कानून व्यवस्था के मामले में कोई ढिलाई नहीं बरतने की नीति अपनाई है. कानून के डर से बड़ी संख्या में अपराधी आत्मसमर्पण कर अथवा स्वंय जमानत निरस्त कर जेल गये है.’’ Also Read - राहुल और प्रियंका गांधी ने कहा- यूपी की बीजेपी सरकार में हर वर्ग के लिए मुश्किल बनी खराब कानून व्यवस्था

मार्च 2017 से नवंबर 2019 तक की अवधि में पुलिस द्वारा कार्यवाही करते हुये बड़ी मात्रा में अवैध आग्नेयास्त्र, कारतूस, बम और 615 अवैध शस्त्र फैक्ट्री बरामद की गयी है.’ उन्होंने कहा कि प्रदेश की जनता को पुलिस की विभिन्न सेवायें सरलता से उपलब्ध कराने के उददेश्य से यूपीकाप मोबाइल एप बनाया गया है जिसमें 28 सेवाओं का समावेश किया गया है. इस एप को पांच लाख से अधिक लोगो द्वारा डाउनलोड किया जा चुका है. साइबर अपराध पर नियंत्रण हेतु गौतमबुध्द नगर और लखनऊ में साइबर थाने क्रियाशील है तथा प्रदेश के अन्य परिक्षेत्रीय कार्यालयों में 16 सायबर थाने स्थापित करने का निर्णय लिया गया है. Also Read - CM योगी की सोशल मीडिया साइट 'कू' पर धमाकेदार एंट्री, अकाउंट बनाते ही इतने हुए फॉलोवर्स

महिलाओं की सुरक्षा हेतु दिसंबर 2019 से सुरक्षा कवच योजना आरंभ की गयी है. कामकाजी महिलाओं तथा महिला यात्रियों द्वारा रात 10 बजे से सुबह छह बजे तक 112 नंबर पर डायल कर पुलिस की सुरक्षा की मांग किये जाने पर पुलिस द्वारा उनके गंतव्य तक सुरक्षित पहुंचाने की व्यवस्था की गयी है. इसके लिये 300 पीआरवी में दो- दो महिलायें शिफट में नियुक्त की गयी हैं. Also Read - सीएम योगी ने बंगाल में कहा- सरकार आई तो 24 घंटे में बंद होंगे बूचड़खाने, गर्व से कहो हम हिंदू हैं

समाजवादी पार्टी ने यूपी के बजट को ‘पुरानी बोतल में नया पानी’ बताया

खन्ना ने बताया कि पुलिस विभाग के अनावसीय भवनों के निर्माण हेतु 650 करोड़ रूपये तथा आवासीय भवनों के निर्माण हेतु 600 करोड़ रूपये की व्यवस्था प्रस्तावित है. पुलिस बल आधुनिकीकरण योजना हेतु 122 करोड़ रूपये की व्यवस्था प्रस्तावित है. विधि विज्ञान प्रयोगशालाओं के निर्माण हेतु 60 करोड़ रूपये की व्यवस्था प्रस्तावित है. सेफ सिटी लखनऊ योजना हेतु 97 करोड़ रूपये की व्यवस्था प्रस्तावित है. उप्र पुलिस फोरेंसिक यूनिवर्सिटी की स्थापना हेतु 20 करोड़ रूपये की व्यवस्था की गयी है.

वित्त मंत्री ने कहा कि कर्तव्य पालन के दौरान शहीद अथवा घायल हुये पुलिस एवं अग्निशमन सेवा के कर्मचारियों के परिवारों को अनुग्रह भुगतान हेतु 27 करोड़ रूपये की व्यवस्था प्रस्तावित है. बजट में स्टूडेंट पुलिस कैडेट योजना हेतु 14 करोड़ रूपये की व्यवस्था प्रस्तावित की गयी है. साइबर क्राइम प्रीवेंशन अगेंस्ट वीमेन एंड चिल्ड्रेन हेतु तीन करोड. रूपये की व्यवस्था प्रस्तावित है.