लखनऊ: उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ फिर से पश्चिम बंगाल जाएंगे. एक दिन पहले ही 3 फरवरी को वह पश्चिम बंगाल रैली करने गए थे, लेकिन प्रशासन ने उनका हेलीकॉप्टर ही नहीं उतरने दिया था. इसके बाद यूपी की राजधानी लखनऊ वापस आकर फोन पर ही रैली को संबोधित किया था. इसमें उन्होंने ममता बनर्जी सरकार को चुनौती दी थी कि ‘मैं फिर आऊंगा. जरूर आऊंगा. ममता बनर्जी की गुंडागर्दी नहीं चलेगी.’ ममता को इस चुनौती के एक दिन बाद ही सीएम योगी ने फिर बंगाल जाने का एलान कर दिया है. पश्चिम बंगाल में इस समय सीबीआई के छापे को लेकर ममता बनर्जी धरना दे रही हैं. वहाँ राजनैतिक सरगर्मियां तेज हैं. ऐसे में सीएम योगी का वहाँ जाना फिर से तकरार की स्थिति पैदा कर सकता है. क्योंकि एक दिन पहले ही सरकार उन्हें वापस भेज चुकी है.

VIDEO: CM योगी की ममता बनर्जी को फोन पर चुनौती, कहा- बंगाल जरूर आऊंगा, याद रखिए हम 16 राज्यों में हैं

बता दें कि पश्चिम बंगाल के दीनापुर में जनसभा को संबोधित करने पहुंचे उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ का हेलीकॉप्टर नहीं उतरने दिया गया था. प्रशासन ने यह कहते हुए हेलीकॉप्टर को उतारने की इजाजत देने से मना कर दिया कि सभा बिना परमीशन और बिना जानकारी के हो रही थी. वापस लौटे सीएम योगी ने यूपी की राजधानी लखनऊ से जनसभा को फोन पर संबोधित किया था. उन्होंने फोन पर कहा कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी राज्य में तानाशाही की सरकार चला रही हैं. योगी ने कहा कि ‘मैं ममता बनर्जी को चुनौती व चेतावनी देता हूं कि मैं आऊंगा, जरूर आऊंगा. जल्द ही पश्चिम बंगाल में बड़ी सभा करूंगा.

कौन हैं ये पुलिस कमिश्नर, जिनके लिए रात में धरने पर बैठीं ममता बनर्जी, हो रहा रेल रोको प्रोटेस्ट

सीएम योगी ने फोन पर कहा था कि पश्चिम बंगाल में टीएमसी (तृणमूल कांग्रेस) की सरकार बीजेपी और संविधान की विरोधी है. इसे हटाना बेहद जरूरी है. विरोध के बाद भी बड़ी मात्रा में बीजेपी कार्यकर्ता रैली में आए. ये सघर्ष काम आएगा. उन्होंने कहा कि ममता ने जिस तरह से जन भावनाएं आहत की हैं, ये निंदनीय है. वहां हिंदुओं को दुर्गा पूजा करने से रोका जाता है. पंचायत चुनाव के दौरान बीजेपी कार्यकर्ताओं की निर्मम हत्याएं हुईं. ये लोकतंत्र के सामने चुनौती है. देश के संविधान के सामने भी व्यापक चुनौती है. पीएम मोदी के नेतृत्व में भारत आगे बढ़ रहा है. बंगाल में राज्य सरकार केंद्र की योजनाएं लागू नहीं करने दे रही. लोगों को लाभ न मिल पाए इसलिए वहां की सरकार योजनाओं को रोक रही है. इस स्थिति को बदलने के लिए परिवर्तन करना होगा.