नई दिल्ली। दिल्ली में हुए कांग्रेस अधिवेशन के बाद पार्टी में उठापटक का दौर शुरू हो गया है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की अपील पर पुराने नेताओं के इस्तीफों का सिलसिला शुरू हो गया है. सूत्रों के मुताबिक, यूपी कांग्रेस अध्यक्ष राज बब्बर ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. बताया जा रहा है कि अभी उनका इस्तीफा स्वीकार नहीं किया गया है. उनसे नया प्रदेश अध्यक्ष की नियुक्ति होने तक कामकाज देखने को कहा गया है. 

राहुल के भाषण से प्रभावित होकर इस राज्य के कांग्रेस अध्यक्ष ने छोड़ा पद

राहुल के भाषण से प्रभावित होकर इस राज्य के कांग्रेस अध्यक्ष ने छोड़ा पद

Also Read - Global Hunger Index में भारत 94वें स्थान पर, राहुल बोले- सरकार अपने खास 'मित्रों' की जेबें भरने में लगी

Also Read - MP By-Polls: कांग्रेस के वचन पत्र पर पार्टी के अंदर Controversy, राहुल गांधी, दिग्‍विजय सिंह की फोटो गायब

राज बब्बर ने अपने ट्विटर अकाउंट पर भी इसकी ओर इशारा किया है. उन्होंने जानेमाने कवि केदारनाथ सिंह के निधन के बाद उनकी पंक्तियां लिखकर संकेत दिया है. उन्होंने लिखा कि अंत में मित्रों, इतना ही कहूंगा कि ‘अंत’ महज एक मुहावरा है जिसे शब्द हमेशा अपने विस्फोट से उड़ा देते हैं. Also Read - Hathras Case: राहुल गांधी ने हाथरस की घटना को लेकर योगी आदित्यनाथ पर बोला हमला, 'CM और उनकी पुलिस ने तो...'

राज बब्बर को 2016 यूपी विधानसभा चुनाव से ठीक पहले यूपी कांग्रेस की कमान दी गई थी. राज बब्बर पर उत्तर प्रदेश में पार्टी के बेहतर प्रदर्शन की जिम्मेदारी थी, लेकिन सपा से गठबंधन के बावजूद चुनाव में पार्टी को अपेक्षित सफलता नहीं मिल पाई.

गोवा कांग्रेस अध्यक्ष ने भी दिया इस्तीफा

कांग्रेस अधिवेशन में राहुल के भाषण से प्रभावित होकर गोवा कांग्रेस अध्यक्ष शांताराम नाइक पहले ही इस्तीफा दे चुके हैं. राहुल ने अधिवेशन में कहा था कि वह चाहते हैं कि कांग्रेस में युवा नेताओं को मौका दिया जाए. अधिवेशन में राहुल ने कहा था कि अब युवा पीढ़ी को कमान संभालने के लिए आगे आना चाहिए. नाइक ने इसी से प्रभावित होकर अपने पद से इस्तीफा दे दिया. उनका कहना था कि अब वक्त आ गया है कि पार्टी में युवाओं को मौका दिया जाए.

राहुल ने की थी अपील

दिल्ली के इंदिरा गांधी इंडोर स्टेडियम में हुए कांग्रेस अधिवेशन में राहुल ने बीजेपी सरकार पर हमला बोलने के साथ साथ अपनी पार्टी को भी नसीहत दी थी. उन्होंने पार्टी में युवा नेताओं को आगे बढ़ाने की बात कही थी. अधिवेशन में वरिष्ठ नेताओं के अलावा बड़ी तादाद में युवा और स्थानीय नेताओं को भी बुलाया गया था. राहुल ने अपने भाषण में एनडीए सरकार और बीजेपी पर भी हमला बोला था. उन्होंने बीजेपी को कौरव और कांग्रेस को पांडव बताया था.