लखनऊ: उत्तर प्रदेश सरकार ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के ‘‘भगवा वस्त्र पर टिप्पणी’’ करने पर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी पर पलटवार करते हुए कहा है कि राजनीति के लिए धर्मों की लड़ाई न शुरू की जाए. प्रदेश के उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने योगी आदित्यनाथ पर भगवा चोला धारण करने के बावजूद हिंसक बदला लेने का आरोप लगाने को लेकर प्रियंका गांधी के संवाददाता सम्मेलन के बाद आनन- फानन में बुलाए गए संवाददाता सम्मेलन में कहा कि कांग्रेस महासचिव ने मुख्यमंत्री के साथ-साथ भगवा को भी आरोपित कर दिया है.

शर्मा ने कहा, ‘योगी जी ने धर्म को धारण किया है. हिन्दू धर्म किसी का अहित करना नहीं सिखाता. हिन्दू धर्म में किसी अन्य धर्म के अपमान की बात ही नहीं है. इतना विशाल हिन्दू धर्म है यह, उसे आप कह रहे हैं कि धारण करने वाला व्यक्ति ऐसा काम कर रहा है.’ उपमुख्यमंत्री ने प्रियंका गांधी पर निशाना साधते हुए कहा , ‘‘आप अपनी राजनीति में धर्मों की लड़ाई को प्रारम्भ कर रहे हैं. कृपया ऐसा न करें. यह हिन्दू और मुसलमान का प्रश्न नहीं है. यह भारत के भविष्य और राष्ट्रीय एकता का सवाल है.’’

संतों की 500 सालों की साधना के बाद आया श्रीराम जन्मभूमि का फैसला, अयोध्या में जल्द बनेगा भव्य मंदिर: योगी

उन्होंने कहा, ‘आप भगवा को गाली देंगे, मगर आप से कोई खुश होने वाला नहीं है और न ही भगवा को छोड़ने वाला है. आप जितनी गाली देंगे, उतना ही हमारा आत्मबल बढ़ता जाएगा.’ इस बीच, योगी आदित्यनाथ के कार्यालय ने भी प्रियंका को जवाब देते हुए ‘ट्वीट’ किया कि मुख्यमंत्री ने भगवा लोक सेवा के लिए धारण किया है, सब कुछ त्याग कर और वे न केवल भगवा धारण करते हैं, बल्कि उसका प्रतिनिधित्व भी करते हैं.

‘धक्कामुक्की’ घटना के बाद प्रियंका गांधी के कार्यालय ने CRPF के DG को लिखा पत्र, किया कार्रवाई का आग्रह

कार्यालय ने कहा कि भगवा वेशभूषा लोक कल्याण और राष्ट्र निर्माण के लिए है और योगी उस पथ के पथिक हैं. ट्वीट में चेतावनी देते हुए कहा गया है ‘संन्यासी की लोक सेवा और जन कल्याण के निरंतर जारी यज्ञ में जो भी बाधा उत्पन्न करेगा उसे दण्डित होना ही पड़ेगा. विरासत में राजनीति पाने वाले और देश को भुला कर तुष्टिकरण की राजनीति करने वाले लोक सेवा का अर्थ क्या समझेंगे?’

उल्लेखनीय है कि प्रियंका ने यहां योगी आदित्यनाथ पर निशाना साधते हुए कहा था कि योगी ने बयान दिया कि वह बदला लेंगे, उस बयान पर पुलिस प्रशासन कायम है. उन्होंने कहा था कि इस देश के इतिहास में शायद पहली बार मुख्यमंत्री ने ऐसा बयान दिया. उन्होंने कहा, ‘उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने योगी के वस्त्र धारण किये हैं. भगवा धारण किया है. यह भगवा आपका नहीं है. ये भगवा हिन्दुस्तान की धार्मिक आध्यात्मिक परंपरा का है. हिन्दू धर्म का चिह्न है. उस धर्म को धारण करिये … उस धर्म में रंज, हिंसा और बदले की भावना की कोई जगह नहीं है.’