उत्तर प्रदेश: यूपी में विधानसभा चुनाव के बाद बनी नई सरकार ने पिछले दिनों कड़ा कदम उठाते हुए 10वीं एवं 12वीं की बोर्ड परीक्षा में परीक्षार्थियों के प्रवेश पत्र के साथ आधार कार्ड जोड़ना अनिवार्य कर दिया था. लेकिन सरकार ने अब अपना यह फैसला वापस ले लिया है. इससे ऐसे परीक्षार्थियों को लाभ मिलेगा जो अभी तक अपना आधार कार्ड नहीं बनवा सके हैं. Also Read - Aadhaar for Vaccine: आधार कार्ड को फौरन फोन नंबर से करवाएं लिंक, आपको पड़ने वाली है जरूरत

उप्र बोर्ड की सचिव नीना श्रीवास्तव के मुताबिक परीक्षार्थियों को इस बार की बोर्ड परीक्षा में प्रवेश पत्र के साथ आधार कार्ड लाना जरूरी नहीं होगा. हालांकि नए सत्र में 9वीं और 11वीं कक्षा में रजिस्ट्रेशन के समय आधार कार्ड जरूरी रहेगा. गौरतलब है कि योगी सरकार के फैसले पर न सिर्फ सवाल उठ रहे थे, बल्कि परीक्षा से ठीक 2 महीने पहले जारी किए गए उक्त आदेश के चलते विवाद भी शुरू हो गया था. उत्तर प्रदेश बोर्ड की 10वीं और 12वीं की परीक्षा 6 फरवरी से शुरू हो रही है. Also Read - Muradnagar Crematorium Roof Collapes Incident: मुरादनगर में श्मशान घाट पर छत ढहने से 23 की मौत, सीएम योगी ने जांच के दिए आदेश, पीएम मोदी ने जताया दुख

बोर्ड के सूत्रों के मुताबिक सीएम योगी के कार्यकाल में हो रही पहली बोर्ड परीक्षा में नकल रोकने और फर्जीवाड़ा रोकने के लिए एडमिट कार्ड के साथ आधार कार्ड को भी अनिवार्य कर दिया गया था. Also Read - Aadhar Card Latest News: Aadhaar केंद्र पर लंबी लाइन से बचने का UIDAI ने बताया आसान तरीका, जानें स्टेप बाई स्टेप में पूरी जानकारी...

नीना श्रीवास्तव के मुताबिक इस बार नकल रोकने के लिए बोर्ड ने कई सख्त कदम उठाए हैं. इसके तहत जहां सेंटर्स का निर्धारण पहली बार पूरी तरह से ऑनलाइन किया गया है. वहीं सारे कॉलेजों में सीसीटीवी कैमरे लगाए जाने की भी तैयारी चल रही है.