लखनऊ: कोरोना वायरस संक्रमण के मद्देनजर लॉकडाउन के दौरान पुलिसकर्मियों और चिकित्सा कर्मियों के साथ अभद्रता या मारपीट करने वाले लोगों के खिलाफ उत्तर प्रदेश सरकार बहुत सख्त कार्रवाई करेगी और इन पर रासुका भी लगाया जाएगा. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गाजियाबाद में नर्सों के साथ अभ्रदता करने वालों पर रासुका लगाने के लिए कहा है. Also Read - IRCTC Indian Railways: इन 40 मार्गों पर रेलवे का प्रदर्शन रहा शानदार, इसलिए चलाई जाएंगी और ट्रेनें

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गाजियाबाद की घटना को गंभीरता से लेते हुए कहा है, ” ये न कानून को मानेंगे, ना व्यवस्था को मानेंगे, ये मानवता के दुश्मन हैं. जो इन्होंने महिला स्वास्थ्यकर्मियों के साथ किया है वह जघन्य अपराध है, इन पर रासुका (एनएसए) लगाया जा रहा है, हम इन्हें छोड़ेंगे नहीं.’ Also Read - IRCTC Indian Railways: कुछ खास रूट्स पर बढ़ाई जाएंगी ट्रेनों की संख्या, रेल मंत्री बोले- बनाएंगे रिकॉर्ड

अपर मुख्य सचिव (गृह) अवनीश अवस्थी ने यह जानकारी देते हुए बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गाजियाबाद में नर्सों के साथ अभ्रदता करने वालों पर रासुका लगाने की बात कही है. Also Read - Complete Lockdown in Bihar: कल से बिहार में पूर्ण लॉकडाउन, जानिए खुलने वाली चीजों की पूरी लिस्ट

अवस्थी ने, ‘पुलिस तथा मेडिकल टीम पर हमला करने वालों या उनके साथ अभद्रता करने वालों के खिलाफ बहुत सख्त कार्रवाई होगी और ऐसे लोगों के खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (एनएसए) के तहत भी कार्रवाई हो सकती है.’

अपर मुख्य सचिव (गृह) ने गाजियाबाद के एक अस्पताल में नर्सों और अन्य मेडिकल स्टाफ के साथ वहां भर्ती लोगों द्वारा अभद्र व्यवहार किए जाने की घटना के संदर्भ में कहा कि ‘मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस घटना को गंभीरता से लेते हुए कहा है कि ये न कानून को मानेंगे, ना व्यवस्था को मानेंगे, ये मानवता के दुश्मन हैं. जो इन्होंने महिला स्वास्थ्यकर्मियों के साथ किया है, वह जघन्य अपराध है, इन पर रासुका (एनएसए) लगाया जा रहा है, हम इन्हें छोड़ेंगे नहीं.’

उत्‍तर प्रदेश सरकार यह कदम ऐसे लोगों के लिए उठा रही है, जो लॉकडाउन को गंभीरता से नहीं ले रहे हैं और पुलिस वालों के साथ अभद्रता या मारपीट कर रहे हैं.

कुछ अन्य राज्यों में स्वास्थ्य विभाग के लोगों के साथ भी अभद्रता के समाचार मिले हैं. हालांकि, उत्तर प्रदेश में किसी स्वास्थ्य कर्मी के साथ ऐसी कोई घटना सामने नहीं आई है. गत एक अप्रैल को मुजफ्फरनगर में एक गांव में कुछ लोगों ने बंद का पालन कराने गए पुलिसकर्मियों पर हमला कर दिया था, जिसमें एक सब इंस्पेक्टर और एक कांस्टेबल बुरी तरह से जख्मी हो गये थे. इसी तरह लॉकडाउन लागू करवाने के दौरान कुछ अन्य जगहों से भी पुलिसकर्मियों के साथ अभद्रता की खबरें हैं.