नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश की योगी सरकार (Yogi Adityanath) में मंत्री जेके सिंह जैकी (JK Singh Jaiki) ने ‘नेता पढ़े लिखे हों या नहीं’ इस पर अलग तरह का बयान दिया है. मंत्री ने कहा कि मंत्री या नेता बनने के लिए पढ़ा लिखा होना ज़रूरी नहीं है. मंत्री ने कहा कि नेता को तो आदेश देना होता है. व्यवस्था देखनी है. इसके लिए पढ़ा लिखा होने की क्या ज़रूरत है. मंत्री ने ये भी कह दिया कि पढ़े लिखे लोग अनपढ़ों के लिए गलत माहौल बना रहे हैं. Also Read - क्या ज्योतिरादित्य सिंधिया की BJP से कांग्रेस में वापसी होगी, राहुल गांधी ने आखिर क्यों कही ये बात?

यूपी की बीजेपी सरकार में कारागार मंत्री जेके सिंह जैकी (JK Singh Jaiki) ने ये अजीबो गरीब बयान सीतापुर के एक कॉलेज में कार्यक्रम के दौरान दिया. मंत्री ने कहा कि ‘नेता कोई पढ़ा लिखा हो, इसकी आवश्यकता नहीं है. मैं मंत्री हूं. मेरे पास निजी सचिव होता है.स्टाफ होता है. जेल मुझे थोड़ी चलानी है. जेल के अधीक्षक बैठे हैं, उन्हें चलानी है.’ Also Read - राहुल गांधी ने कहा- ज्योतिरादित्य की कांग्रेस में एक हैसियत थी, अब BJP में दर्शकों की तरह पीछे बैठते हैं

मंत्री ने ये भी कहा कि जेल में व्यवस्था देखना हमारा काम है. जेल में खाना सही मिल रहा या नहीं, और बाकी व्यवस्था भी ठीक है या नहीं. मंत्री ने कहा कि पढ़े लिखे लोग अनपढ़ों के बीच गलत माहौल बनाते हैं. उन्हें भ्रमित करते हैं. कई बार पढ़े लिखे साथ बैठते हैं और कहते हैं कि वो नेता या मंत्री सिर्फ 10वीं तक पढ़ा है. उसको कुछ नहीं आता. बिना पढ़े लिखे लोग पढ़े लिखे लोगों को चला रहे हैं. मंत्री का ये बयान सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है.