बलिया (यूपी): सोनभद्र हत्याकांड के बाद प्रियंका गांधी पीड़ितों के परिजनों से मिलने को रोकने पर गरमाई सियासत को यूपी में बीजेपी सरकार के एक मंत्री ने सोची समझी रणनीति बताया है. मंत्री उपेंद्र तिवारी ने कहा कि सोनभद्र हत्याकांड का सियासी फायदा प्रियंका गांधी ने उठाया और उन्होंने इसलिए ऐसा किया क्योंकि वह कांग्रेस की अध्यक्ष बनना चाहती हैं. इसके जरिए उन्होंने अपनी दावेदारी पेश की है. Also Read - कृषि कानूनों के खिलाफ कांग्रेस का प्रदर्शन, राहुल-प्रियंका भी हुए शामिल, कहा- पूंजीपतियों को फायदा पहुंचा रही बीजेपी

Also Read - किसानों और सरकार की वार्ता फिर विफल, कांग्रेस ने कहा- कृषि कानून वापस ही हों, प्रियंका गांधी बोलीं- हम पीछे नहीं हटेंगे

सोनभद्र कांड: पीड़ितों के परिजनों से मिलकर रो पड़ीं प्रियंका गांधी, महिलाएं भी फूट-फूट कर रोईं Also Read - Badaun Gang Rape Case: एनसीडब्ल्यू की सदस्य पर भड़कीं प्रियंका गांधी, दिया था बेहूदा बयान

प्रियंका गांधी उत्तर प्रदेश सरकार के मंत्री उपेंद्र तिवारी ने कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा पर हमला करते हुए कहा है कि प्रियंका ने सोनभद्र की घटना का सहारा लेकर कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिये अपनी मजबूत दावेदारी पेश की है. प्रदेश के भूमि विकास एवं जल संसाधन राज्यमंत्री तिवारी ने शनिवार रात यहां संवाददाताओं से बातचीत में आरोप लगाया कि प्रियंका ने सोनभद्र की घटना के जरिये सियासी लाभ उठाने की कोशिश की है.

इस समय कांग्रेस अध्यक्ष का पद खाली है और प्रियंका ने सोनभद्र कांड के पीड़ितों से मिलने के बहाने सियासी ड्रामा करके यह दिखाने की कोशिश की है कि कांग्रेस में उनसे मजबूत नेता कोई और नहीं है और पार्टी अध्यक्ष पद के लिये उनका दावा सबसे जोरदार है. उन्होंने यह भी कहा कि जब सोनिया गांधी और राहुल गांधी कांग्रेस अध्यक्ष बन सकते हैं तो प्रियंका भी आशान्वित हैं कि वह भी पार्टी प्रमुख बन सकती हैं.

यूपी सरकार के अफसरों से बोलीं प्रियंका गांधी- सोनभद्र के पीड़ितों से जरूर मिलूंगी, जमानत नहीं लूंगी

तिवारी ने कहा कि सोनभद्र में जमीन विवाद को लेकर पिछले दिनों हुई गोलीबारी में 10 लोगों के मारे जाने की घटना को देखते हुए प्रियंका को धैर्य रखना चाहिए था और मामला शांत होने तक सोनभद्र जाने से परहेज करना चाहिए था. सपा सांसद एवं पूर्व मंत्री आजम खां पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि आजम मुसलमानों के मसीहा नहीं हैं. उन्हें किसी ने यह इजाजत नहीं दी है कि वे किसानों और गरीबों की जमीन पर कब्जा कर लें. मंत्री ने राज्य सरकार द्वारा आजम के विरुद्ध पक्षपातपूर्ण कार्रवाई से इनकार करते हुए कहा कि सरकार विधि सम्मत तरीके से अपना काम कर रही है.