उत्तर प्रदेश में राहुल गांधी की किसान यात्रा का आज चौथा दिन है। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी शुक्रवार को अयोध्या पहुंचे। उन्होंने हनुमानगढ़ी मंदिर में पूजा-अर्चना की। साल 1992 में हुए बाबरी मस्जिद विध्वंस के बाद गांधी परिवार के किसी सदस्य का अयोध्या का यह पहला दौरा है। इस दौरान अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के पूर्व अध्यक्ष और हनुमानगढ़ी के महंत ज्ञानदास ने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को पीएम बनने का आशीर्वाद दिया।

उन्होंने मंहत ज्ञानदास के साथ करीब 20 मिनट तक अकेले में चर्चा की। इसके बाद महंत ज्ञान दास ने बताया कि, ‘मैंने राहुल गांधी को पीएम बनने का आशीर्वाद दिया है और उनसे कहा कि आप पीएम बनें और यहां के मंदिर-मस्जिद विवाद का हल करें। मैंने उनसे कहा कि मंदिर-मस्जिद विवाद राजनीतिक कारणों से काफी बढ़ गया। आप इस पर गौर करें। मेरा आशीर्वाद है कि आप पीएम बनकर इस विवाद को हल करने में सफल हों।’

पूजा के दौरान राहुल गांधी को तिलक लगाते पुजारी

पूजा के दौरान राहुल गांधी को तिलक लगाते पुजारी

इसके बाद ज्ञानदास ने कहा कि करीब 20 मिनट उनसे हुई एकान्त में बातचीत काफी महत्वपूर्ण थी। उन्होंने मेरी बातों को बड़ी ही शालीनता से सुना। इस दौरान उन्होंने मेेरी कुछ बातों पर चुप्पी साधी लेकिन कई का जवाब भी दिया। महंत ज्ञानदास ने एकांत में हुई इस बात चीत का पूरा ब्यौरा तो नहीं दिया लेकिन उन्होंने इतना ज़रुर कहा कि राहुल गांधी अच्छे व्यक्ति हैं और उनमें सुनने का माद्दा है। यह भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश: अयोध्या पहुंचे राहुल गाँधी

Rahul gandhi with mahant gyandas

उन्होंने कहा कि वह अयोध्या में एक मस्जिद की मरम्मत करा रहे हैं। मस्जिद हनुमानगढ़ी की सम्पत्ति है। गांधी को जब इसकी जानकारी दी गयी तो वह काफी खुश हुए और कहा कि देश की असली संस्कृति यही है। एक साधु स्थानीय मुस्लिमों से मिलकर मस्जिद की मरम्मत करा रहा है इससे ज्यादा सुकून देने वाली बात और क्या हो सकती है।

सिविल लाइंस स्थित गांधी पार्क में महात्मा गांधी की प्रतिमा पर माल्यार्पण के साथ राहुल गांधी ने अपनी किसान यात्रा की शुरूआत की।  सुबह करीब 11 बजकर 15 मिनट पर वह कांग्रेस के नेता प्रतिपक्ष राज्यसभा गुलामनबी आजाद और पूर्व प्रदेश अध्यक्ष डॉ. निर्मल खत्री के साथ किसान यात्रा के तय रूट चार्ट के मुताबिक गांधी पार्क पहुंचे और उसके बाद आचार्य नरेंद्रदेव की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया।

rahul gandhi

इस दौरान स्थानिय व्यपारी नेताओं ने राहुल गांधी से मिलकर उन्हें किसानों की समस्याओं से रूबरू करवाया और ज्ञापन सौंपा किसान यात्रा फैजाबाद शहर के सिविल लाइंस, रिकाबगंज, चौक, रीडगंज, देवकाली होते हुए दर्शननगर व पूरा बाजार के लिए रवाना होगी। राहुल की इस किसान यात्रा में समर्थकों में काफी उत्साह और जोश देखा जा रहा है।

गौरतलब है कि राहुल गांधी के पिता और तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी अयोध्या आए थे, लेकिन वे हनुमानगढ़ी मंदिर नहीं जा पाए थे। इस यात्रा के अगले साल ही 21 मई 1991 को राजीव गांधी की हत्या हो गई थी। वहीं 1992 में कार सेवकों ने बाबरी मस्जिद के विवादित ढांचे को गिरा दिया था। इस घटना के 25 साल बाद गांधी परिवार का कोई सदस्य अयोध्या आ रहा है। यहां तक की सोनिया गांधी भी कभी अयोध्या की धरती पर नहीं गईं, जबकि वह फैजाबाद तक आ चुकी हैं।