नई दिल्ली: पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के गवर्नर उर्जित पटेल के इस्तीफे को ‘बहुत दुर्भाग्यपूर्ण’ करार देते हुए कहा कि यह देश की अर्थव्यवस्था को लगा एक ‘गंभीर झटका’ है. उधर, आरबीआई के पूर्व गवर्नर सी. रंगराजन ने कहा है कि वह आरबीआई के गवर्नर उर्जित पटेल के इस्तीफे से ‘दुखी’ और ‘हैरान’ हैं. रंगराजन ने कहा कि यह दुखद है, क्योंकि आरबीआई गवर्नर के इस्तीफे का असर वित्तीय बाजार पर पड़ेगा. सरकार को तत्काल कार्रवाई करनी चाहिए और तुरंत एक नया गवर्नर नियुक्त करना चाहिए. Also Read - मोरेटोरियम पीरियड में 'ब्याज पर ब्याज' से छूट को जल्द मिलेगी कैबिनेट की मंजूरी, जानिए कैसे मिलेगा फायदा?

Also Read - Loan Moratorium Update: लोन मोरेटोरियम मामले में सरकार ने SC में दाखिल किया नया हलफनामा, जानें क्या है ताजा अपडेट

  Also Read - रेपो रेट में कोई बदलाव नहीं, इन महीने से बढ़ेंगी आर्थिक गतिविधियां- आरबीआई गवर्नर

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के गवर्नर उर्जित पटेल के इस्तीफे को लेकर एक बयान में पूर्व प्रधानमंत्री ने कहा कि वह उम्मीद करते हैं कि आरबीआई गवर्नर के अचानक हुए इस्तीफे में भारत की तीन खरब अमेरिकी डॉलर की अर्थव्यवस्था की संस्थागत नींव को ‘नष्ट’ करने की मोदी सरकार की कोशिशों के संदेश नहीं हों. उन्होंने कहा कि अल्पकालिक राजनीतिक फायदों के लिए संस्थाओं को खत्म करना ‘मूर्खता’ होगी. उधर, आरबीआई) के पूर्व गवर्नर और आंध्रप्रदेश के पूर्व राज्यपाल रंगराजन ने कहा कि उर्जित पटेल ने इस्तीफा देने का निजी कारण बताया है, लेकिन उनके इस्तीफे के पीछे कुछ कारण जरूर रहे होंगे.

केन्या निवासी पटेल RBI ज्वाइन करने के बाद बने थे ‘भारतीय’, असहमति में इस्तीफा देने वाले पांचवें गवर्नर

आर्थिक सलाहकार परिषद के अध्यक्ष रंगराजन ने जताई हैरानी

हैरान क्यों हैं? यह पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि मैंने सोचा था कि बोर्ड की अंतिम बैठक में आरबीआई और केंद्र सरकार के बीच कई मामले सुलझा लिए गए हैं और बाकी मुद्दे भी जल्द ही सुलझा लिए जाएंगे. रंगराजन वर्ष 2009-14 के दौरान प्रधानमंत्री के आर्थिक सलाहकार परिषद के अध्यक्ष भी थे. रंगराजन के अनुसार, वह समझते थे कि आरबीआई और केंद्र के बीच मुद्दे सुलझा लिए गए हैं और समितियों के गठन को लेकर एक-दो चीजों को सुलझाया जाना बाकी रह गया है.

रघुराम राजन ने उर्जित के इस्तीफे पर कहा, हर भारतीय को चिंतित होना चाहिए, यह गतिरोध क्यों बना

उर्जित पटेल ने निजी कारणों का हवाला देने हुए दिया इस्‍तीफा

उर्जित पटेल ने सोमवार को ‘निजी कारणों’ का हवाला देते हुए अचानक इस्तीफा दे दिया. उन्होंने आरबीआई की ओर से जारी एक संक्षिप्त बयान में कहा, “मैंने निजी कारणों से अपने मौजूदा पद से तत्काल इस्तीफा देने का निर्णय लिया है. उन्होंने बयान में कहा, “वर्षो तक आरबीआई में विभिन्न पदों पर काम करना मेरे लिए सौभाग्य और सम्मान की बात रही है. इन वर्षो में आरबीआई के कर्मचारियों, अधिकारियों और प्रबंधन के सहयोग और कठिन परिश्रम से बैंक ने सराहनीय उपलब्धियां हासिल की. पटेल ने कहा कि मैं इस अवसर पर अपने सहयोगियों और आरबीआई केंद्रीय बोर्ड के निदेशकों के प्रति आभार व्यक्त करता हूं और उन्हें भविष्य के लिए शुभकामनाएं देता हूं.