नई दिल्ली: अमेरिकी दूतावास ने रविवार को कहा कि उसे दिल्ली के सरकारी स्कूल में अमेरिका की प्रथम महिला मेलानिया ट्रम्प की यात्रा के दौरान मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया की मौजूदगी को लेकर कोई आपत्ति नहीं है. लेकिन दूतावास ने इस बात को ‘‘समझने को लेकर भी सराहना की कि यह कोई राजनीतिक समारोह नहीं है’’. दिल्ली सरकार के सूत्रों ने शनिवार को कहा था कि मेलानिया ट्रंप के मंगलवार को दिल्ली के सरकारी स्कूल के दौरे के समय केजरीवाल और सिसोदिया मौजूद नहीं रहेंगे क्योंकि कार्यक्रम के लिए अतिथि सूची से उनके नाम हटा दिए गए हैं. Also Read - India vs England 4th Test: फिर फिरकी के जाल में फंसी इंग्लैंड की टीम, पहले दिन इन 5 मौकों पर टीम इंडिया ने मारी बाजी

अमेरिकी दूतावास में एक प्रवक्ता ने इस बारे में मीडिया द्वारा सवाल पूछे जाने पर कहा, ‘‘अमेरिकी दूतावास को मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री की मौजूदगी से कोई आपत्ति नहीं है, लेकिन हम इस बात को समझने के लिए उनकी सराहना करते हैं कि यह कोई राजनीतिक समारोह नहीं है और यह सुनिश्चित करना सबसे अच्छा है कि शिक्षा, स्कूल एवं छात्रों पर ध्यान केंद्रित किया जाए.’’ अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की पत्नी मेलानिया के ‘खुशहाली पाठ्यक्रम’ देखने के लिए स्कूल जाने और वहां छात्रों से संवाद करने का कार्यक्रम है. Also Read - Ease of Living Index जारी, इन शहरों ने बनाई टॉप 10 में जगह, MPI में नई दिल्‍ली और इंदौर का बेहतर प्रदर्शन

दिल्ली सरकार के सूत्रों ने बताया कि अमेरिकी दूतावास ने शनिवार सुबह शहर के प्रशासन को अवगत कराया था कि आयोजन के लिए आमंत्रित लोगों की सूची में केजरीवाल और सिसोदिया का नाम नहीं है. पहचान जाहिर नहीं करने का अनुरोध करते हुए दिल्ली सरकार के एक अधिकारी ने बताया, ‘‘आयोजन के लिए आमंत्रित लोगों की सूची से केजरीवाल और सिसोदिया के नाम हटा दिए गए हैं. हमें नहीं पता कि प्रथम महिला जब हमारे स्कूल में आयेंगी तो कौन उनका स्वागत करेगा और कौन उन्हें अवगत कराएगा.’’ Also Read - Delhi: CM Kejriwal ने माता-पिता के साथ ली कोरोना वैक्सीन, LNJP हॉस्पिटल में कराया टीकाकरण

इससे पहले, दिन में उपमुख्यमंत्री ने संवाददाताओं से कहा कि दिल्ली सरकार को मेलानिया के एक सरकारी स्कूल के दौरे के लिए अनुरोध मिला था. उन्होंने कहा, ‘‘अगर वह (सरकारी स्कूल) आना चाहती हैं तो उनका स्वागत है.’’ आयोजन से दोनों नेताओं के नाम हटाए जाने पर क्षोभ प्रकट करते हुए आम आदमी पार्टी के प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने कहा कि यह एक प्रोटोकॉल और ‘परंपरा’ है कि आयोजन में कोई भी विदेशी विशिष्ट अतिथि आता है तो राज्यों के नेता उपस्थित रहते हैं.

दिल्ली सरकार ने जुलाई 2018 में खुशहाली पाठ्यक्रम की शुरुआत की थी . पाठ्यक्रम के तहत दिल्ली सरकार के स्कूलों में कक्षा एक से आठ में पढ़ने वाले छात्रों को हर दिर 45 मिनट खुशहाली कक्षा में गुजारना होता है . यहां पर वे कथा-कहानी, ध्यान और सवाल-जवाब सत्र में हिस्सा लेते हैं . इसी तरह, नर्सरी और केजी के छात्र-छात्राओं के लिए हफ्ते में दो बार कक्षाएं होती हैं.

(इनपुट भाषा)