नई दिल्ली. आंतकी मसूद अजहर पर अमेरिका ने कहा है कि वह क्षेत्रीय स्थिरता के लिए खतरा है. अमेरिका ने कहा है कि जैश-ए-मोहम्मद एक आतंकी संगठन है और कई आतंकी घटनाओं को अंजाम दे चुका है. मसूद अजहर पर बैन लगाने के लिए UNSC में प्रस्ताव भेजा गया है. इसमें अमेरिका, फ्रांस और ब्रिटने ने भी प्रस्ताव दिया है. बता दें कि रिपोर्ट्स के मुताबिक, पाकिस्तान में अब भी 22 आतंकी संगठन सक्रिय हैं. इसमें 9 संगठन जैश-ए-मोहम्मद के हैं.

मसूद अजहर पर पाबंदी लगाने का एक नया अनुरोध
बता दें यह फैसला ऐसे समय में आया है जब संयुक्त राष्ट्र की 1267 प्रतिबंध समिति को जैश-ए-मोहम्मद के प्रमुख मसूद अजहर पर पाबंदी लगाने का एक नया अनुरोध प्राप्त हुआ है.

जैश-ए-मोहम्मद ने ली थी पुलवामा आतंकी हमले की जिम्‍मेदारी
बीते 14 फरवरी को जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर हुए फिदाइन हमले में बल के 40 जवानों की शहादत के बाद संयुक्त राष्ट्र की समिति से अजहर पर पाबंदी लगाने की मांग की गई है. पाकिस्तान स्थित आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने इस हमले की जिम्मेदारी ली थी.

मसूद अजहर का बेटा भी हिरासत में
दूसरी तरफ पाकिस्तान में, भारत के पुलवामा में आतंकवादी हमले के लिए जिम्मेदार संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर के बेटे और भाई सहित प्रतिबंधित आतंकवादी संगठनों के 44 सदस्यों को मंगलवार को ‘‘ऐहतियाती हिरासत में’’ ले लिया गया. पाकिस्तान ने उसकी सरजमीं पर सक्रिय आतंकी संगठनों पर लगाम कसने के लिए वैश्विक समुदाय के बढ़ते दबाव के बीच यह कार्रवाई की है.