नई दिल्ली: पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने सत्ता हासिल करने के लिए सियासी पार्टियों की ओर से धर्म और जाति के इस्तेमाल के खिलाफ आगह करते हुए शनिवार को कहा कि इससे नफरत और विभाजन का वातावरण पैदा हो सकता है. उन्होंने इस तरह के गलत इरादे वाले लोगों का मुकाबला करने के लिए अच्छे लोगों को एक साथ आने की जरूरत बताई. सिंह ने कहा कि सांप्रदायिक ध्रुवीकरण की कोशिशें डर, चिंता और अनिश्चिता का माहौल बना सकती है. उन्होंने कहा कि शांति एवं सौहार्द के लिए सभी संस्थानों, न्यायपालिका, कार्यपालिका और विधायिका का धर्मनिरपेक्ष चरित्र पहली जरूरत है.Also Read - Manmohan Singh Health Update: मनमोहन सिंह डेंगू से पीड़ित, एम्स में जाने-माने डॉक्टर्स कर रहे देख-रेख

Also Read - Manmohan Singh Health Update: मनमोहन सिंह की हालत स्थिर, ह्रदय रोग विशेषज्ञों की निगरानी में

अयोध्या में विश्व हिंदू परिषद की ‘धर्म सभा’ थोड़ी देर में, चप्पे-चप्पे पर रखी जा रही नजर Also Read - मनमोहन सिंह एम्स में भर्ती, PM मोदी ने ठीक होने की कामना की, केंद्रीय मंत्री मिलने पहुंचे

प्रणब मुखर्जी फाउंडेशन की ओर से आयोजित एक सम्मेलन को संबोधित करते हुए पूर्व प्रधानमंत्री ने दावा किया कि देश के प्रमुख संस्थान विश्वसनीयता की कई चुनौतियों का सामना कर रहे हैं. उन्होंने रेखांकित किया कि अच्छी तरह से काम करने वाले संस्थानों के बिना राष्ट्र ‘नाकाम’ हो जाते हैं. उन्होंने कहा कि गिरावट राज्य के अंगों के कामकाज को प्रतिकूल रूप से प्रभावित करती है और उनकी विश्वसनीयता को खराब करती है. उन्होंने ‘टूवर्ड्स पीस, हार्मनी एंड हेप्पीनेस : ट्रांस्टजिशन टू ट्रांसफॉर्मेशन’ सम्मेलन में कहा, ऐसी स्थिति समाज, अर्थव्यवस्था और राजनीति में अव्यवस्था पैदा कर सकती है.’

अयोध्या में राम मंदिर: वीएचपी की धर्मसभा और शिवसेना का कार्यक्रम आज, ठंड में बढ़ी गर्मी

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने कहा कि शांति और सौहार्द बनाए रखने के लिए शासन के संस्थान एक आवश्यक शर्त हैं. इसके अलावा, उनका निष्पक्ष होना जरूरी है और उन्हें समाज के सभी तबकों के लिए काम करना चाहिए. सिंह ने कहा कि दुर्भाग्य से, राजनीतिक पार्टियों द्वारा अपने राजनीतिक हितों को आगे बढ़ाने एवं सत्ता हासिल करने के लिए धर्म, जाति और अन्य कारकों का इस्तेमाल करने से, धार्मिक एवं जातीय समूहों में नफरत का माहौल बन सकता है और उनके बीच विभाजन पैदा कर सकता है. इस तरह की स्थिति शांतिपूर्ण बदलाव के समक्ष गंभीर चुनौती पेश कर सकती है.

अयोध्या में बनेगी भगवान राम की सबसे ऊंची प्रतिमा, स्टैच्यू ऑफ यूनिटी से 39 मीटर ज्यादा होगी ऊंचाई

उन्होंने कहा कि इस संदर्भ में, शांति, सौहार्द और खुशहाली को बाधित करने वाली ताकतों के गलत इरादों का मुकाबला करने के लिए समाज के जहीन तबके को साथ आने की जरूरत है. गुरुनानक, रविंद्रनाथ टेगौर, महात्मा गांधी, सर मोहम्मद इकबाल का हवाला देते हुए पूर्व प्रधानमंत्री ने कहा कि वे सभी एक ऐसा देश चाहते थे जो सांप्रदायिक अशांति से मुक्त हो और लोगों में उनकी जाति, नस्ल, रंग, धर्म के आधार पर कोई विभाजन नहीं हो. उन्होंने कहा कि यह हमेशा याद रखा जाना चाहिए कि भारत एक बहु-सांस्कृतिक, बहु जातीय, बहु भाषी देश है. बहरहाल, कुछ ताकतें हैं जो इस विविधता का फायदा उठा रही हैं और देश की एकता के समक्ष चुनौती पैदा कर रही हैं.

बोले वित्त मंत्री- सरकार का राजकोषीय अनुशासन बेहतर, हमें नहीं चाहिए रिजर्व बैंक का धन

सिंह ने कहा कि एक ऐसे समाज में जहां विभिन्न धर्मों के लोग रहते हैं, वहां डर, चिंता और अनिश्चितता से मुक्त जीवन जीने के लिए सांप्रदायिक सौहार्द बहुत अहम है. पूर्व प्रधानमंत्री की टिप्पणी ऐसे वक्त में आई है जब विश्व हिन्दू परिषद ने अयोध्या में राम मंदिर के संवेदनशील मुद्दे पर ‘धर्म संसद’ बुलाई है. शांति और सौहार्द के लिए सभी संस्थानों का धर्मनिरपेक्ष चरित्र बनाए रखने को जरूरी बताते हुए सिंह ने कहा कि यह राजनीतिक, धार्मिक नेतृत्व, नागरिक समाज, बुद्धिजीवी, और मीडिया की जिम्मेदारी है कि वे संविधान और संस्थानों की विश्वनीयता को बनाए रखें.

उन्होंने कहा कि जब संस्थान अपनी संवैधानिक जिम्मेदारियों के निर्वहन से विचलन शुरू करते हैं और जानबूझकर या अनजाने में संवैधानिकत्तेर शक्तियों और राज्येत्तर तत्वों का शिकार हो होते हैं, तो परिवर्तन की प्रक्रिया में हिंसा का खतरा होता है. उन्होंने कहा कि समाज में शांति, सौहार्द और खुशहाली के लिए आर्थिक प्रगति और विकास जरूरी शर्त है लेकिन पर्याप्त कारण नहीं है.