याकूब मेमन की फांसी का मामला अभी शांत भी नही हुआ था कि कांग्रेस विधायक उस्मान मजीद ने एक बयान देकर राजीनीतिक गलियारों में हड़कंप मचा दिया है। मजीद के मुताबिक उन्होंने 1993 मुंबई बम ब्लास्ट के मास्टरमाइंड टाइगर मेमन से दो से तीन बार मुलाकात करने का दावा किया है। उस्‍मान ने एक समाचार चैनल से बात करते हुए दावा किया है वो मुंबई हमलों के आरोपी टाइगर मेमन से कई बार मिल चुके हैं। उस्मान ने दावा किया है कि टाइगर ने माना था कि मुंबई दंगे का बदला लेने के लिए उसने 1993 में ब्लास्ट कराए थे। Also Read - खुफिया विभाग के रडार पर टाइगर मेमन, 1993 मुबंई सीरियल ब्लास्ट का है मास्टरमाइंड

Also Read - तीन साल बाद रातभर चली सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई, याकूब के बाद अबकी येदियुरप्पा पर चर्चा

मजीद ने कहा कि मैं टाइगर मेमन से कई बार मिल चुका हूं, लेकिन याकूब को नहीं जानता था। जब मैं उससे मिला था, वो पाकिस्‍तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई के संरक्षण में था। मैंने उससे कई सवाल भी पूछे थे। कांग्रेस विधायक का यह बयान उस वक्‍त आया है जब मुंबई धमाकों के आरोपी याकूब मेमन को फांसी पर चढ़ा दिया गया है और अब टाइगर मेमन को लेकर बहस जारी है। यह भी पढ़े-याकूब मेमन की फांसी पर छिड़ा राजनीतिक वाक्युद्ध Also Read - Dawood Ibrahim's aide Farooq Takla may also arrest in gutkha case| दाऊद के अरेस्‍ट सहयोगी टकला की गुटखा मामले में भी हो सकती है गिरफ्तारी, 1993 मुंबई ब्‍लास्‍ट में है आरोपी

मजीद ने कहा, ”वह मुझे नवंबर 1993 में मिला था। मुझे याद है कि वो कह रहा था कि याकूब ने सरेंडर किया है। वह कह रहा था कि उनको मुझपर शक हुआ है। वो बड़े खौफ और दहशत के माहौल में था. उसको लग रहा था कि आईएसआई और पाकिस्तानियों को उसपर भरोसा नहीं रहा। उसने कहा कि वह एक महीने के लिए पाकिस्तान से भाग भी गया था। उसने कहा कि याकूब ने सरेंडर किया है जबकि लोग कहते हैं कि उसने सरेंडर नहीं किया है।

बता दे कि मजीद दो साल पाकिस्तान में रहे और उसके बाद भारत लौटकर उन्होंने सरेंडर किया। साल 2002 में उस्मान मजीद ने बांदीपुरा निर्वाचन क्षेत्र से निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर विधानसभा चुनाव जीता। पीडीपी-कांग्रेस गठबंधन वाली मुफ्ती मोहम्मद सईद सरकार में उस्मान मजीद को राज्यमंत्री बनाया गया। 2014 में मजीद ने कांग्रेस के टिकट पर चुनाव जीता।