Akhilesh Yadav 091 Also Read - Money Laundering Case: ED ने यूपी के पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति के कई ठिकानों पर रेड डाली

Also Read - यूपी के ईस्टर्न डेडिकेटिड फ्रेट कोरिडोर का उद्घाटन: PM मोदी ने कहा- ये नया कोरिडोर पूर्वी भारत को नई ऊर्जा देगा

लखनऊ 21 मई: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव गुरुवार को छह सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल के साथ फ्रांस के लिए रवाना हो गए। 21 से 26 मई तक चलने वाले इस दौरे में वह फ्रांस के इत्र कारोबार के केंद्र ‘ग्रासे’ में कन्नौज के इत्र कारोबार को बढ़ाने पर चर्चा करेंगे। प्रतिनिधिमंडल में मुख्यमंत्री के साथ उनकी पत्नी और कन्नौज की सांसद डिंपल यादव व अभिषेक मिश्र भी शामिल हैं। ग्रासे दुनिया में इत्र राजधानी के तौर पर मशहूर है। Also Read - किसानों को तोहफा: अब गंगा नदी के जरिए होगी आमदनी, जानें क्या है योगी सरकार का प्लान

मुख्यमंत्री के दौरे का उद्देश्य इत्र नगरी कन्नौज और ग्रासे के बीच कारोबारी रिश्तों की शुरुआत करना है। इस दौरे के माध्यम से दोनों शहरों के बीच इत्र व्यवसाय से जुड़े सभी पहलुओं को जानने और समझने की कोशिश होगी, ताकि इत्र कारोबार को बढ़ावा मिल सके। यह भी पढ़े:मोदी ने राजीव गांधी को श्रद्धांजलि दी

राज्य सरकार इत्र उद्योग को एक प्रमुख उद्योग के रूप में स्थापित करना चाहती है। अपनी विशेषज्ञता के आधार पर फ्रांस इस दिशा में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। इस दौरे में इत्र निर्माण की नई तकनीकों का पता लगाया जाएगा, ताकि कन्नौज के इत्र उद्योग को लाभकारी बनाया जा सके और उत्तर प्रदेश में फूलों की खेती को भी प्रोत्साहन मिल सके।