नई दिल्ली: देश में बुलेट ट्रेन जैसी सुविधा देने की बात हो रही है, लेकिन यात्रियों के लिए रेल यातायात के हालात बहुत अच्छे नहीं हैं. उत्तर प्रदेश के बुंदेलखंड इलाके से ट्रेन में सफर कर रही एक 18 साल की लड़की की जनरल कोच में मौत हो गई. वजह हैरत में डालने वाली है. दरअसल, ट्रेन के जनरल कोच में भीड़ इतनी अधिक थी कि लड़की का चलती ट्रेन में दम घुट गया. और उसकी मौत हो गई.

बांदा ज़िले से 18 साल की सीता अपने पिता राम प्रकाश अहिरवार व परिवार के अन्य सदस्यों के साथ दिल्ली आ रही थी. वह बांदा से यूपी संपर्क क्रांति एक्सप्रेस में सवार हुई. ये परिवार जनरल कोच में सवार हुआ. ये लोग दिल्ली में मजदूरी करने आ रहे थे. जनरल कोच में बेहद भीड़ थी. ये परिवार जैसे तैसे ट्रेन में घुसा. कोच में चढ़ने के बाद जैसे ही ट्रेन चली सीता को परेशानी होने लगी.

सांप को ‘ज़हर’ से बचाने के लिए इनकम टैक्स अधिकारी ने दिखाई ऐसी बहादुरी, हैरत में पड़े लोग

हिंदी दैनिक अखबार अमर उजाला के अनुसार सीता ने अपने पिता रामप्रकाश से परेशानी होने पर ट्रेन से उतरने को कहा. बांदा से निकली ट्रेन कुछ जगहों पर रुकी भी, लेकिन भीड़ अधिक होने के कारण ये उतरने में कामयाब नहीं हो सके. इन्हें उतरने को जगह ही नहीं मिली. झांसी से पहले बरुआसागर स्टेशन के पास सीता बेहोश हो गई. झांसी पहुंचने के बाद ट्रेन से पिता ने सीता को उतारा. उसे यहां से एम्बुलेंस से अस्पताल ले जाया गया, लेकिन तब तक उसने दम तोड़ दिया. बताया जा रहा है कि सीता भीड़ अधिक होने के कारण ट्रेन में सांस नहीं ले सकी. गर्मी अधिक होने के कारण उसे परेशानी हुई और उसकी हालत बिगड़ गई. डॉक्टर्स के अनुसार मौत का सही कारण पोस्टमार्टम रिपोर्ट में ही आएगा.