लखनऊ: आम आदमी पार्टी के नेता एवं राज्य सभा सांसद संजय सिंह अपने खिलाफ दर्ज मामले में रविवार को लखनऊ के हजरतगंज पुलिस थाने में पेश होंगे . पार्टी के प्रवक्ता वैभव माहेश्वरी ने शनिवार को यह जानकारी दी. उन्होंने कहा, ‘‘संजय सिंह अपने खिलाफ दर्ज मामलों में रविवार को हजरतगंज पुलिस थाने में पेश होंगे और गिरफ्तारी देंगे .’’ एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि हजरतगंज पुलिस थाने में आप नेता के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराओं के तहत दो सितंबर को मामला दर्ज किया गया था. Also Read - Bank Robbery in Greater Noida: बैंक लूट मे शामिल दो आरोपी गिरफ्तार, चेकिंग के दौरान पुलिस के हत्थे चढ़े बदमाश

सिंह के खिलाफ लखनऊ पुलिस ने हजरतगंज पुलिस थाने में दर्ज मामले में राजद्रोह की धारा जोड़ी है . पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि सिंह के खिलाफ दो सितंबर को एक सर्वेक्षण कराये जाने के मामले में भारतीय दंड संहिता की धारा 501 ए तथा 120 बी के अलावा आईटी अधिनियम के तहत मामला दर्ज कराया गया था . Also Read - भाजपा सरकार की न तो नीतियां सही हैं, नीयत, योगी राज में विकास का पहिया थम गया है : अखिलेश

अधिकारी ने बताया कि सिंह को लखनऊ पुलिस ने बृहस्पतिवार को एक नोटिस भेजा जिसमें अन्य धाराओं के अलावा राजद्रोह की धारा 124 ए को भी शामिल किया गया है . यह नोटिस संजय सिंह के दिल्ली वाले आवास के नार्थ एवेन्यू के पते पर भेजा गया है . Also Read - AAP सांसद संजय सिंह का योगी सरकार पर बड़ा आरोप, बोले- यूपी में अपराधियों पर कार्रवाई जाति पूछकर की जाती है

हजरतगंज पुलिस थाने के जांच अधिकारी ए के सिंह की ओर से संजय सिंह को भेजे गए नोटिस में कहा गया है, ‘आपके विरुद्ध मुकदमा अपराध संख्या 242/2020 भारतीय दंड संहिता की धारा 153 ए/153 बी/,505 :1::बी:/505:2:/468/469/124 ए/120 बी व 66 सी/66 डी आईटी अधिनियम के तहत पुलिस थाना हजरंतगंज लखनऊ के संबंध में जांच विवेचना की जा रही है, जो संज्ञेय एवं गैर जमानती अपराध है, जिसके संबंध में अपने पक्ष में तथ्यों/अभिलेखीय साक्ष्य प्रस्तुत करने हेतु मेरे समक्ष बीस सितंबर को सुबह 11 बजे उपस्थित होना सुनिश्चित करें .

नोटिस में कहा गया है, ‘‘यदि आप नियत तिथि/समय पर उपस्थित नहीं होते हैं तो आपके विरुद्ध दंडनीय कार्यवाही की जायेगी .’ जांच अधिकारी ने बताया कि संजय सिंह के अलावा सर्वेक्षण करने वाली निजी कंपनी के खिलाफ भी मामला दर्ज किया गया है .

सिंह द्वारा जारी किये गये इस सर्वेक्षण में कहा गया था कि योगी आदित्यनाथ सरकार एक विशेष जाति के लिये कार्य कर रही है . इस सर्वेक्षण के बाद संजय सिंह के खिलाफ प्रदेश के विभिन्न जिलों में कम से कम 13 मामले दर्ज कराये गये थे .