नई दिल्‍ली: उत्‍तराखंड में एक जुलाई से शुरू होने जा रही चारधाम यात्रा के लिए स्‍टैंडर्ड ऑप‍रेटिंग प्रोसीडर यानि SOP जारी कर दी गई है. इस यात्रा में सिर्फ राज्‍य के लोग ही शामिल हो पाएंगे. इसके लिए E-pass जारी किए जाएंगे. Also Read - वैज्ञानिकों ने खोजा कोरोना से जुड़ी गंभीर बीमारियों से बच्चों को बचाने का रहस्य, जानिए क्या है इनका दावा  

सोमवार को उत्‍तरखंड चारधाम देवदर्शन बोर्ड ने SOP जारी की है. उत्तराखंड चारधाम देवस्थानम बोर्ड 1 जुलाई से शुरू होने वाली चारधाम यात्रा के लिए मानक संचालन प्रक्रिया जारी करता है. केवल राज्य के निवासियों के लिए ई-पास लागू है और मंदिर में दर्शन के दौरान मंदिर में दर्शन के लिए ही मान्य है. Also Read - कोरोना महामारी के बीच फिल्म निर्माता बना रहे हैं ये प्लान, तापसी पन्नू की आगामी फिल्म से हो सकती है शुरुआत

एसओपी की खास बातें
– चारधाम यात्रा के लिए SOP जारी
– 1 जुलाई से राज्य स्तर पर शुरू होगी यात्रा
– उत्‍तराखंड केवल राज्य के स्तर पर ही फिलहाल चलेगी
– यात्रा कंटेनमेंट जोन और बफर जोन में निवासी नहीं कर पाएंगे चार धाम यात्रा
– यात्रा शुरू करने से पूर्व देवस्थानम बोर्ड की वेबसाइट पर पंजीकरण जरूरी होगा
– रजिस्‍ट्रेशन में अपनी पूरी जानकारी देनी होगी


– सभी शर्तो के संबंध में सेल्फ डिक्लेरेशन करना होगा
– सेल्फ डिक्लेरेशन के बाद ई पास जारी होगा
– हर धाम में केवल एक ही रात्रि ही ठहरने की इजाजत
– किसी आपदा की स्तिथि में स्थानीय प्रशासन की लेनी होगी अनुमति
– कोविड 19 के लक्षण वाले व्यक्ति नहीं कर सकेंगे यात्रा
– 65 साल से अधिक के बुजुर्ग व 10 साल से कम के बच्चे को यात्रा न करने के निर्देशयात्रा
– हैंड सैनिटाइजर, मास्क व सोशल डिस्टेंस का पालन अनिवार्य
– कोई भी श्रद्धालु धाम में मंदिर के गर्भगृह सभा मंडप के अग्रभाग में नहीं जा सकेंगे
– मंदिर में प्रवेश से पहले हाथ पैर धोना जरूरी होगा
– परिसर के बाहर से लाए किसी प्रसाद चढ़ावे को मंदिर परिसर में लाना वर्जित
– देवमूर्ति को स्पर्श करना वर्जित