Uttarakhand Lockdown Update: कोरोना की दूसरी लहर का कहर कम होने के बाद ज्यादातर राज्यों में लॉकडाउन पाबंदियों में ढील दे दी गई है. हालांकि संभावित तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए तमाम तरह के एहतियात भी बरते जा रहे हैं. आगामी त्योहारों को देखते हुए सरकार बार-बार लोगों के अपील कर रही है कि वह कोविड गाइडलाइंस का अच्छी तरह से पालन करें. इन सबके बीच उत्तराखंड सरकार ने राज्य में लगे कोरोना कर्फ्यू को एक बार फिर बढ़ा दिया है.Also Read - Uttarakhand Lockdown Update: उत्तराखंड में 19 अक्टूबर तक बढ़ाई गई कोरोना पाबंदियां, जानें अपडेट

सरकार की तरफ से जारी आदेश के अनुसार, 1 सितंबर की सुबह 6 बजे खत्म होने वाले कर्फ्यू की मियाद को बढ़ाकर पांच अक्टूबर की सुबह 6 बजे तक कर दिया गया है. मालूम हो कि उत्तराखंड में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़कर 3,43,382 हो गई है वहीं, अब तक 7,390 लोगों की इस जानलेवा वायरस की वजह से मौत हो चुकी है. राज्य में फिलहाल 273 एक्टिव केस हैं और 3,35,719 लोग इलाज के बाद ठीक हो चुके हैं. Also Read - Mussoorie Travel Guidelines: मसूरी जाने का है प्लान तो जान लें ताजा गाइडलाइंस, इसके बिना नहीं मिलेगी एंट्री...

Also Read - Uttarakhand Lockdown Update: उत्तराखंड में बढ़ी कोरोना पाबंदियों की मियाद, शादी के लिए नई गाइडलाइंस भी जारी

इससे पहले उत्तराखंड में चार पवित्र धामों की यात्रा कोविड प्रोटोकॉल के साथ शनिवार से शुरू हो गई. देवस्थानम बोर्ड के मीडिया प्रभारी हरीश गौड़ ने बताया कि यात्रा मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) का अनुपालन सुनिश्चित करने संबंधी प्रबंधों के बीच आसपास के गांवों से श्रद्धालुओं ने आज सुबह मंदिरों में पहुंचना शुरू कर दिया.

उन्होंने कहा कि तीर्थयात्रियों पर सीसीटीवी के जरिए नजर रखी जा रही है, जिससे कि यह पता चल सके कि कहीं कोविड-19 प्रोटोकॉल का कोई उल्लंघन तो नहीं हो रहा है. तीर्थयात्रियों को चार धामों-बद्रीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री के गर्भ गृह में जाने की अनुमति नहीं है. मंदिरों के कपाट नियमित पूजा-अर्चना के लिए मई में ही खुल गए थे, लेकिन सुरक्षा कारणों से इन्हें श्रद्धालुओं के लिए बंद रख गया था.

राज्य सरकार द्वारा बीते शुक्रवार को जारी की गई एसओपी में दैनिक तीर्थयात्रियों की संख्या सीमित कर दी गई है, जिसके तहत बद्रीनाथ में हर रोज 1,000 लोग, केदारनाथ में 800, गंगोत्री में 600 और यमुनोत्री मंदिर में 400 लोग हर रोज दर्शन कर सकते हैं. इसने कहा कि ऐसे लोगों को यात्रा की अनुमति होगी, जिन्हें कम से कम 15 दिन पहले कोविड रोधी टीके की दूसरी खुराक लग चुकी हो या जिनके पास नेगेटिव आरटी/पीसीआर/ट्रूनैट/सीबीएनएएटी/ आरएटी रिपोर्ट हो, जो 72 घंटे से अधिक पुरानी नहीं होनी चाहिए.

(इनपुट: ANI,भाषा)