Vaccine/Covaxin For Children: कोरोना के नए वैरिएंट डेल्टा प्लस को लेकर बढ़ रही चिंताओं के बीच अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के निदेशक रणदीप गुलेरिया ने कहा है कि भारत में सितंबर तक बच्चों के लिए वैक्सीन आ जाएगी.Also Read - IRS अधिकारी डॉ. कविता भटनागर के उपन्यास 'लव अनलॉक्‍ड' का विमोचन, AIIMS चीफ डॉ. गुलेरिया भी रहे मौजूद

इंडिया टुडे टीवी से बातचीत में रणदीप गुलेरिया ने कहा कि भारत की वैक्सीन निर्माता कंपनी भारत बायोटेक की वैक्सीन कोवैक्सीन के दूसरे और तीसरे चरण के ट्रायल के आंकड़े सितंबर तक आ जाएंगे. देश में इस वैक्सीन का दो से 17 साल की उम्र के बच्चों पर ट्रायल किया जा रहा है. Also Read - 12-17 साल के बच्चों की वैक्सीन 'कोवोवैक्स' प्राइवेट सेंटर्स पर भी मिलेगी, कीमत भी की गई कम

उन्होंने कहा कि सितंबर में ट्रायल के नतीजे आने के बाद उसी माह इसकी मंजूरी भी मिल जाएगी. Also Read - अच्छी खबर! अब पांच से 12 साल के बच्चों को भी लगेगा टीका, सरकारी पैनल ने की 'कोर्बेवैक्स' वैक्सीन की सिफारिश

इसके साथ ही गुलेरिया ने कहा कि अगर फाइजर-बायोनेट (Pfizer-BioNTech) की वैक्सीन को मंजूरी मिलती है तो यह भी बच्चों के लिए एक विकल्प होगी.

दिल्ली एम्स सहित देश के कई राज्यों में दो से 17 साल के बच्चों पर कोवैक्सीन का ट्रायल चल रहा है.

गौरतलब है कि कोरोना के नया वैरिएंट डेल्टा प्लस को लेकर चिंताएं बढ़ गई हैं. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रायल ने भी कहा है कि यह चिंता बढ़ाने वाला वैरिएंट है. इस वैरिएंट के बारे में वैज्ञानिकों का दावा है कि इसके खिलाफ वैक्सीन और नेचुरल एंटीबॉडी भी काम नहीं कर रहे हैं.

देश में मंगलवार तक इस वैरिएंट से संक्रमित 22 मरीज मिले थे. जानकार बता रहे हैं कि कोरोना की तीसरी लहर में यही वैरिएंट सबसे खतरनाक हो सकता है.