नई दिल्ली: राष्ट्रीय राजधानी के शाहीन बाग (Shaheen Bagh) में सीएए (CAA) और एनआरसी (NRC) के खिलाफ लगभग दो महीने प्रदर्शन कर रहीं महिलाओं का कहना है कि 14 फरवरी को वैलेंटाइंस-डे के मौके पर वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) को प्यार का पैगाम देना चाहती हैं. शाहीन बाग (Shaheen Bagh) में पिछले करीब 2 महीने से महिलाएं और बच्चे सड़क पर बैठकर प्रदर्शन कर रहे हैं, जिसकी वजह से कालिंदी कुंज मार्ग बंद है. प्रदर्शनकारी महिलाओं का कहना है, “सरकार का कोई नुमाइंदा आए, हमसे बात करे और हमको आश्वस्त करे कि हम कानून वापस ले रहे हैं.”

वैलेंटाइंस-डे (Valentines Day) पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) को शाहीन बाग में प्यार का पैगाम देने के लिए गुरुवार को ‘मोदी हैशटैग तुम कब आओगे’ (#ModiTumKabAaoge) सेलिब्रेशन हुआ और प्रधानमंत्री मोदी के लिए शाहीन बाग के लोग एक टेडी बियर लेकर आए और ये संदेश देने की कोशिश की कि “प्रधानमंत्री मोदी, आप आइए और हमसे बात करिए, नफरत मत करिए.” साथ ही कहा कि “शाहीन बाग आइए, प्यार के त्योहार का जश्न मनाइए, प्यार बांटिए और अपना तोहफा लेकर जाइए.”

शाहीन बाग में हुए इस कार्यक्रम में कई प्रदर्शनकारी खफा भी नजर आए. कुछ महिलाओं का कहना है कि जामिया में दो दिन पहले छात्रों के साथ मारपीट की गई और दो दिन बाद इस तरह का कार्यक्रम शाहीन बाग (Shaheen Bagh) में करना एक गलत संदेश देना है. उन्होंने कहा कि 17 फरवरी को शाहीनबाग में सड़क पर चल रहे प्रदर्शन को लेकर फैसला आना है और जिन्होंने भी यह कार्यक्रम तय किया, उन्होंने ज्यादा लोगों से नहीं पूछा. कई लोग बीच में से उठकर चले गए. ये उन्हें अच्छा नहीं लगा.

प्रदर्शन के दौरान मौजूद शाहीन बाग़ की औरतें

बता दें कि हाल ही में हुए दिल्ली विधानसभा चुनाव (Delhi Assembly Election 2020) के दौरान बीजेपी ने शाहीन बाग़ के प्रदर्शन को ही मुद्दा बना लिया था. पीएम मोदी (PM Modi) ने इस प्रदर्शन को संयोग नहीं प्रयोग बताया था. वहीं, अमित शाह (Amit Shah) ने कहा था कि दिल्ली के लोगों इतनी तेज़ बटन दबाना कि करंट शाहीन बाग़ को लगे. कई तरह के विवादित बयान भी शाहीन बाग़ को लेकर सामने आए थे.