वाराणसी में गणेश प्रतिमा के विसर्जन को लेकर 22 सितंबर को हुए लाठीचार्ज के विरोध में सोमवार को लोगों ने उग्र प्रदर्शन किया। बवाल की शुरुआत एक सांड़ के भड़कने और उसके बाद भगदड़ मचने से हुई। इस दौरान लोगों और पुलिस के बीच झड़प हो गई। भीड़ ने पुलिस पर पथराव किया, जिसके बाद पुलिस ने भी लाठीचार्ज किया। गुस्साई भीड़ ने कई गाड़ियों को आग भी लगा दी।Also Read - गौतम गंभीर की केजरीवाल की अयोध्‍या यात्रा पर तंज- दिल्‍ली के CM राम जन्मभूमि पर पूजा कर अपने पाप धोने का प्रयास कर रहे

उग्र हुए युवकों ने पुलिस पर पथराव कर दिया और गोदौलिया पुलिस बूथ में आग लगा दी। बूथ के पास खड़ी एक मजिस्ट्रेट की जीप, फायर ब्रिगेड की गाड़ी व पुलिस की वैन, लगभग दो दर्जन बाइक आग के हवाले कर दी गईं। Also Read - Video: Kanpur Metro ट्रेन आज पहली बार टेस्‍ट ट्रैक पर चलती हुई आई नजर

वहां हालात अब भी तनावपूर्ण बना हुआ है। शहर के विभिन्न हिस्सों में कर्फ्यू लगा दिया गया है। आज के विरोध प्रदर्शन को ‘अन्याय प्रतिकार’ यात्रा का नाम दिया गया था। ये यात्रा दोपहर 3 बजे मैदागिन चौराहे से निकलकर दशाश्वमेघ घाट पर खत्म होनी थी, लेकिन अंतिम पड़ाव से ठीक पहले गादौलिया चौराहे पर पहुंचते ही पथराव शुरू हो गया। इसमें कई पुलिसवाले घायल भी हुए। यह वीडियो देखने के लिए नीचे क्लिक करें। Also Read - UP कांग्रेस के नेता राजेश पति त्र‍िपाठी और उनके बेटे ललितेश पति त्र‍िपाठी TMC में शामिल हुए

22 सितम्बर को गंगा में ही गणेश प्रतिमा विसर्जन पर अड़े लोगों पर हुए लाठीचार्ज के खिलाफ स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद ने 5 अक्तूबर को मैदागिन के टाउनहाल से दशाश्वमेध तक अन्याय प्रतिकार यात्रा निकालने का फैसला किया था। तय कार्यक्रम के अनुसार दोपहर साढ़े बारह बजे स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद केदारघाट स्थित अपने आश्रम से टाउनहाल के लिए पैदल ही निकले।