गुवाहाटी: ‘इंडियन डाइटेटिक एसोसिएशन’ (आईडीए) ने दावा किया है कि देश में शाकाहारी आहारों में प्रोटीन की 84 प्रतिशत कमी है जिसका मुख्य कारण लोगों में जागरूकता की कमी है. शोध में कहा गया है कि लोग अगर जागरूक हों तो ये कमी पूरी हो सकती है. इस पर लोगों को ध्यान देने की ज़रूरत है. Also Read - High Protein Laddoos: 4 हजार साल पहले हड़प्पा के लोग खाते थे प्रोटीन से भरपूर मल्टीग्रेन 'लड्डू', गजब है खासियत

Also Read - हमेशा बनी रहती है थकावट, तो शरीर में हो रही है इस अहम चीज की कमी, जल्द कराएं टेस्ट

बीएसएफ के 97 फीसदी जवान ड्यूटी पर मिलने वाले भोजन से संतुष्ट: डीआरडी की स्‍टडी Also Read - Protein Deficiency Signs: शरीर में हो रही है प्रोटीन की कमी तो दिखते हैं ये 11 लक्षण

प्रोटीन की जानकारी ही नहीं

बाजार शोध फर्म आईएमआरबी द्वारा किए गए एक अध्ययन का हवाला देते हुए आईडीए ने कहा कि करीब 93 प्रतिशत भारतीयों को उनकी आदर्श प्रोटीन जरूरत की जानकारी नहीं है और भारतीय शाकाहारी आहार इससे सबसे ज्यादा प्रभावित है. भारत के शाकाहारी भोजन में 84 प्रतिशत जबकि मांसाहारी भोजन में 65 प्रतिशत प्रोटीन की कमी है.

…तो सड़कों पर चलने वाले वाहनों जितना प्रदूषण फैलाते हैं मांसाहारी भोजन

प्रोटीन शरीर के लिए जरूरी

आईडीए ने एक बयान में कहा कि इस तरह के चिंताजनक डेटा को देखते हुए आईडीए ने उपभोक्ताओं को प्रोटीन के महत्व के बारे में जानकारी देने का अभियान चलाने का फैसला किया है. प्रोटीन हमारे सामान्य स्वास्थ्य के लिए जरूरी है जिसका जीवन के हर चरण पर असर होता है. विज्ञप्ति में कहा गया कि आज से आईडीए सात दिवसीय प्रोटीन सप्ताह मना रहा है.