हैदराबाद: उप राष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने महिलाओं के खिलाफ जघन्य अपराधों के प्रति चिंता जताई और वक्त पर न्याय मिलना सुनिश्चित करने के लिए समयबद्ध तरीके से जांच पूरी करने, सुनवाई पूरी करने और सजा सुनाने की जरूरत पर जोर दिया. नायडू ने यहां एक कार्यक्रम में हैदराबाद, उन्नाव और देश के अन्य हिस्सों में महिलाओं के साथ बलात्कार और हिंसाओं की हालिया घटना पर पीड़ा व्यक्त की. एक आधिकारिक बयान में कहा गया कि उपराष्ट्रपति के अनुसार नया विधेयक लाना अथवा कानून में बदलाव लाना ही एकमात्र हल नहीं है.

हैदराबाद एनकाउंटर मामला: चारों आरोपियों के शवों को नौ दिसंबर तक सुरक्षित रखने के आदेश

उन्होंने समाज से बुराई को मिटाने के लिए मौजूदा प्रावधानों को राजनीति इच्छाशक्ति के साथ और प्रशासनिक दक्षता से लागू करने की जरूरत पर भी जोर दिया. उप राष्ट्रपति ने कहा कि वक्त पर न्याय मिलने के लिए जरूरी है कि जांच, सुनवाई और सजा समयबद्ध तरीके से सुनाई जाए.

Hyderabad Encounter: शव को लेने से परिजनों ने किया इनकार, पुलिस करेगी अंतिम संस्कार

आपको बता दें कि  उन्नाव में आग के हवाले की गई दुष्कर्म पीड़िता जिंदगी की जंग हार गई. बलात्कार की शिकार बेटी ने सफदरजंग अस्पताल में शुक्रवार रात 11:40 बजे जिंदगी की डोर छोड़ दी और इस दुनिया को हमेशा के लिए अलविदा कह दिया. पीड़िता को एअरबस से दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल भेजा गया था. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर पीड़िता को एअरलिफ्ट कराया गया था. इसके लिए लखनऊ पुलिस ने सिविल अस्पताल से अमौसी एयरपोर्ट तक ग्रीन कॉरिडोर बनाया था.