गौरक्षा को लेकर प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी के बयान पर विश्व हिन्दू परिषद् ने नाराजगी जताई है। विहिप के एक नेता ने कहा की प्रधानमंत्री का यह बयान उत्तर प्रदेश में मुसलामानों को लुभाने के लिए था। वहाँ अगले साल चुनाव होने है। परिषद् के नेता ने यह भी कहा की अगर मोदी ऐसा ही बोलते रहे तो वह 2016 में हिन्दुओं के वोट खो सकते है।

यह भी पढ़े: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी: अगर आपको मारना है तो मुझे मारिये लेकिन मेरे दलित भाईयों पर अत्याचार बंद करें

वहीँ, अलीगढ़ में अखिल भारतीय हिंदू महासभा के सदस्‍यों ने रविवार को नरेंद्र मोदी के पोस्‍टर को यह कहते हुए दूध पिलाया कि मोदी आस्‍तीन के सांप हैं। हिंदू महासभा के स्वामी चक्रपाणि ने कहा कि पीएम ने किस आधार पर 80 फीसदी गौरक्षकों को गुंडा करार दिया है। इसके लिए वो  पीएम को लीगल नोटिस भेजेंगे। यही नहीं स्वामी चक्रपाणि ने कहा पीएम को ऐसा गैर जिम्मेदाराना बयान नहीं देना चाहिए।

बता दें की प्रधानमंत्री प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को राज्यों को नकली ‘गौरक्षकों’ की जांच करने और उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई करने का आग्रह किया। मोदी ने कहा कि वे लोग देश को बर्बाद कर रहे हैं। गौरक्षा के नाम पर हो रही बर्बरतापूर्ण घटनाओं पर अपनी चिंता का इजहार करते हुए उन्होंने कहा, “भारत विविधताओं, विभिन्न मूल्यों एवं परंपराओं से भरा देश है और इसकी एकता व अखंडता की रक्षा करना हमारी प्रमुख जिम्मेदारी है।”

प्रधानमंत्री ने कहा कि वह असली गौरक्षकों और गौसेवकों को सलाम करते हैं। उन्होंने हालांकि यह नहीं बताया कि असली और नकली गौरक्षकों की पहचान कैसे की जाए।

देश के विभिन्न हिस्सों में कथित गौरक्षकों द्वारा दलितों और मुस्लिमों पर हमले की बढ़ती घटनाओं पर प्रधानमंत्री की चुप्पी को लेकर विपक्षी दल प्रधानमंत्री की आलोचना कर रहे थे।