नई दिल्ली/अहमदाबाद: 2019 में आयोजित होने वाले वाइब्रेंट गुजरात ग्लोबल समिट में इस बार पाकिस्तान के व्यापारिक मंडल भी सम्मिलित हो रहे हैं. भारतीय सैनिकों की हत्या के बाद उपजे तनाव के चलते पिछले दो शिखर सम्मेलन से पाकिस्तान को बाहर रखा गया था. 2013 के बाद अब फिर से पाकिस्तान के व्यापारिक प्रतिनिधिमंडल को इस बार 18-20 जनवरी, 2019 को होने वाले दो दिवसीय वाइब्रेंट गुजरात ग्लोबल समिट में हिस्सा लेने की मंजूरी दी गई है, इसकी पुष्टि आयोजकों ने की है. द इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक इस ग्लोबल समिट में पाकिस्तान के विभिन्न क्षेत्रों के कम से कम सात प्रतिनिधिमंडलों के भाग लेने की उम्मीद है, जिसके चलते इस शिखर सम्मेलन में सम्मिलित देशों में सबसे बड़े दल के तौर पर पाकिस्तान के शिरकत करने की उम्मीद है.

मेक्सिको वाल पर अमेरिकी सरकार में रार, संसदीय कामकाज अगले हफ्ते भी ठप रहने की आशंका

2013 में लौट गया था पाकिस्तानी दल
इस शिखर सम्मेलन में विभिन्न देशों के वाणिज्य और व्यापार निकायों का प्रतिनिधित्व करने वाले 52 प्रतिनिधिमंडल हिस्सा ले रहे हैं. इन प्रतिनिधि मंडलों ने ग्लोबल कॉन्क्लेव ऑफ इंटरनेशनल चैंबर्स के लिए अपनी भागीदारी की पुष्टि की है, जो कि इस शिखर सम्मेलन की एक बड़ी उपलब्धि होगी. इससे पहले 2013 में, कराची चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री का 22 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल शिखर सम्मेलन में शामिल होने पहुंचा था लेकिन उसी दौरान जम्मू-कश्मीर के पुंछ के मेंढर सेक्टर में संघर्ष विराम के उल्लंघन में दो भारतीय सैनिकों की हत्या के बाद दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ जाने व भारत के विरोध के चलते पाकिस्तान का  प्रतिनिधिमंडल 12-13 जनवरी को होने वाले मुख्य शिखर सम्मेलन में शिरकत किए बिना ही वापस लौट गया था.

उस समय, राज्य सरकार ने पाकिस्तान के प्रतिनिधि मंडल की वापसी की वजह वीजा नियमों को बताया था क्योंकि पाकिस्तान के अधिकतर सदस्यों के पास केवल अहमदाबाद के लिए वीजा था, जबकि मुख्य कार्यक्रम गांधीनगर में आयोजित किया गया था. 2013 के बाद दो शिखर सम्मेलन और आयोजित हुए हैं जिनमें पाकिस्तान का प्रतिनिधित्व नहीं रहा है. गुजरात सरकार द्वारा जनवरी 2019 में होने वाले वाइब्रेंट गुजरात शिखर सम्मेलन में अमेरिका के शीर्ष गैर-सरकारी संगठन यूएसआईएसपीएफ की गुजरात सरकार के साथ भागीदारी है. इस बार के वाइब्रेंट गुजरात में कई शीर्ष अमेरिकी कंपनियों के शामिल होने की उम्मीद जताई जा रही है. इस प्रोग्राम से सम्बंधित विज्ञप्ति में कहा गया है कि अमेरिका-भारत सामरिक भागीदारी फोरम (यूएसआईएसपीएफ) के चेयरमैन जॉन चैंबर्स शिखर सम्मेलन में अमेरिकी कंपनियों के मुख्य कार्यकारी अधिकारियों (सीईओ) के प्रतिनिधिमंडल की अगुआई करेंगे.

अफगानिस्तान-अमेरिका के नए डेवलमेंट से भारत पर पड़ेगा ये असर, अरबों का निवेश अधर में