नई दिल्ली: दिल्ली सरकार ने रविवार को कहा कि उत्तरपूर्वी दिल्ली में पिछले सप्ताह हुई सांप्रदायिक हिंसा के पीड़ितों को 25,000 रुपये की तत्काल सहायता मिलनी शुरू हो गई है. आप सरकार ने एक बयान में कहा कि हिंसा प्रभावित चारों मंडलों में अधिकारियों ने पीड़ितों को उनके घर के दरवाजे पर तत्काल राहत के रूप में वित्तीय सहायता वितरित करना शुरू कर दिया है. Also Read - Covid-19: सीएम केजरीवाल ने लॉन्च किया मोबाइल ऐप, अब एक क्लिक में पाएं अस्पतालों की जानकारी

बयान में कहा गया, ‘‘दिल्ली में हाल की हिंसा से प्रभावित परिवारों को रविवार को 25,000 रुपये की तत्काल वित्तीय सहायता मिलनी शुरू हुई… साथ ही, कुछ प्रभावित लोग सीधे एसडीएम कार्यालय आए और उन्हें राशि प्राप्त हुई. इसके अलावा, नुकसान के आकलन की प्रक्रिया रविवार को भी जारी रही.’’ आप सरकार ने इससे पहले मुआवजे के पैकेज के साथ-साथ दंगा पीड़ितों के लिए राहत और पुनर्वास उपायों की घोषणा की थी. Also Read - दिल्ली के सभी बॉर्डर सील, एंट्री के लिए आपके पास होना चाहिए यह पास

बता दें कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शनिवार को उत्तरपूर्वी दिल्ली के दंगा प्रभावित क्षेत्रों में राहत कार्यों का जायजा लेने के लिए उप जिलाधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की. उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के साथ बैठक में पहुंचे केजरीवाल ने संवाददाताओं से कहा कि दिल्ली सरकार यह सुनिश्चित करना चाहती है कि लोगों का जीवन सामान्य हो, जिसके लिए अधिकारियों द्वारा कई कदम उठाए जा रहे हैं. Also Read - CM अरविंद केजरीवाल ने मांगे सुझाव- क्या दिल्ली के अस्पतालों में केवल दिल्ली वालों के लिए रिजर्व हों बेड? हां, या नहीं

बैठक में लगभग 18 उप जिलाधिकारी (एसडीएम) शामिल थे, जिन्हें हिंसा प्रभावित क्षेत्रों में तैनात किया गया है. बैठक में समाज कल्याण मंत्री राजेंद्र पाल गौतम भी उपस्थित थे. मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार को अब तक लोगों से 67 मुआवजे के फॉर्म मिले हैं, एसडीएम ने हिंसा के कारण हुए नुकसान का आकलन करने के लिए एक कवायद शुरू की है.