हैदराबाद। तेलंगाना में चुनावी तैयारियों और रणनीतियों के बीच विवाद भी सामने आने लगे है. हैदराबाद में एक ऐसा वीडियो वायरल हुआ है जिसमें एक मस्जिद में कुछ मुस्लिम टीआरएस को वोट देने की बात कह रहे हैं. इस वीडियो में मस्जिद में कुछ मुस्लिम व्यक्ति एक मंत्री की मौजूदगी में आगामी विधानसभा चुनाव में टीआरएस को समर्थन देने का संकल्प लेते दिख रहे हैं. इस वीडियो के वायरल होने के बाद मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने जांच के आदेश दिए हैं.

मंत्री महेंद्र रेड्डी थे मौजूद

कुछ लोग एक वीडियो में दिख रहे हैं जो अस्थायी (केयरटेकर) सरकार में परिवहन मंत्री पी महेंद्र रेड्डी को अपना वोट देने का वायदा कर रहे हैं. इसके बाद मंत्री उनके समर्थन के लिए उनका शुक्रिया अदा कर रहे हैं. रेड्डी तांडूर सीट से टीआरएस के उम्मीदवार होंगे.

तेलंगाना विधानसभा: TRS के नए निर्णय से राज्य की राजनीति में हलचल

राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी रजत कुमार ने कहा कि कुछ अखबारों में खबरें आई हैं और शिकायतें भी की गई हैं. अभी आदर्श आचार संहिता लागू नहीं है, अगर मतदाता शपथ लेता है तो मैं नहीं समझता हूं कि यह चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन है, लेकिन हमने संबंधित जिला चुनाव अधिकारी से इसपर रिपोर्ट देने को कहा है.

उन्होंने कहा कि अगर प्रलोभन देने जैसा कुछ हुआ है तो जरूरी कार्रवाई की जाएगी. इस संबंध में महेंद्र रेड्डी की तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है.

विपक्ष ने बोला टीआरएस पर हमला

इस बीच, विपक्षी पार्टियों ने आरोप लगाया कि टीआरएस प्रमुख और अस्थायी मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव और अन्य नेता ‘सांप्रदायिक राजनीति’ कर रहे हैं और चुनाव जीतने के लिए ‘घटिया तरीके’ अपना रहे हैं.

तेलंगाना कांग्रेस के प्रवक्ता श्रवण दसोजू ने कहा कि पार्टी ने निर्वाचन आयोग में शिकायत दर्ज कराई है और उन्होंने आयोग को निजी तौर पर ट्वीट करके कहा है कि क्यों ऐसी चीजों को रोकने के लिए कदम नहीं उठाए जा रहे हैं. राज्य भाजपा प्रवक्ता कृष्ण सागर राव ने कहा कि वीडियो टीआरएस नेताओं की मुस्लिम तुष्टीकरण की राजनीति को दर्शाता है.