नासिक। महाराष्ट्र के नासिक में आज वायुसेना का विमान सुखोई 30MKI आज दुर्घटनाग्रस्त हो गया. राहत की बात ये रही कि दोनों पायलटों ने समय रहते पैराशूट का इस्तेमाल किया और सुरक्षित नीचे आ गए. विमान पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया. किस तरह दोनों पायलटों ने सूझबूझ से समय रहते अपनी जान बचा ली. इस वीडियो में देखिए कैसे दोनों पायलट पैराशूट से नीचे आ रहे हैं.

खेत में जाकर गिरा विमान

भारतीय वायु सेना में शामिल होने का इंतजार कर रहा एक सुखोई विमान आज सुबह नासिक के समीप दुर्घटनाग्रस्त हो गया. अंगूर के एक बगीचे के पास जमीन पर गिरने से पहले दोनों पायलट सुरक्षित बाहर निकल गए. हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) द्वारा पूरी तरह विकसित किया जा रहा बहुउद्देशीय सुखोई सु -30 एमकेआई लड़ाकू विमान नासिक से करीब 25 किलोमीटर दूर पिम्पलगांव बसवंत कस्बे के पास वावी-ठुशी गांव के एक खेत में दुर्घटनाग्रस्त हुआ.

एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि तकनीकी खामी की वजह से विमान दुर्घटनाग्रस्त हुआ होगा. विस्तृत जांच से सही कारण का पता चल सकेगा. पुलिस ने बताया कि विमान जिस खेत में दुर्घटनास्थल हुआ वहां काम कर रहे कुछ श्रमिक छर्रे लगने के कारण घायल हो गए और उन्हें ग्रामीण अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

अब तक एक दर्जन हादसे

पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि विमान सुबह 11 बजकर पांच मिनट पर दुर्घटनाग्रस्त हुआ और पिम्पलगांव पुलिस थाने को सुबह 11 बजकर 15 मिनट पर सूचना मिली. सुखोई SU -30 एमकेआई विमान हर मौसम में हवा से हवा में और हवा से सतह पर मार करने में सक्षम है. भारतीय वायुसेना ने 1990 के दशक में पहली बार एसयू -30 विमानों को अपने बेड़े में शामिल किया था. उसके बाद से कम से कम एक दर्जन दुर्घटनाएं हो चुकी हैं. इनमें से ज्यादातर हादसे तकनीकी खामी के कारण हुए हैं.

(एजेंसी इनपुट)