नई दिल्ली: दिल्ली मेट्रो के स्टेशनों पर आत्महत्या की घटनाओं पर चिंता जाहिर करते हुए भाजपा के एक सदस्य ने शुक्रवार को मांग की कि इन पर रोक लगाने के लिए दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन को समुचित अवरोधक लगाने चाहिए. उन्होंने कहा कि वर्ष 2015 से 2018 तक दिल्ली मेट्रो के स्टेशनों पर आत्महत्या के करीब 46 मामले हुए हैं.

राज्यसभा में विशेष उल्लेख के जरिए यह मुद्दा उठाते हुए भाजपा के विजय गोयल ने कहा कि आत्महत्या के बढ़ते मामलों की वजह से लगता है कि कहीं दिल्ली मेट्रो आत्महत्या का केंद्र तो नहीं बन रही है. उन्होंने कहा कि वर्ष 2015 से 2018 तक दिल्ली मेट्रो के स्टेशनों पर आत्महत्या के करीब 46 मामले हुए हैं. उन्होंने कहा कि दिल्ली मेट्रो केंद्र एवं दिल्ली सरकार का एक संयुक्त उपक्रम है जिसकी आठ लाइनें चलती हैं. आत्महत्या के ज्यादातर प्रयास ब्लू लाइन पर हुए हैं.

गोयल ने मांग की कि इस तरह की घटनाओं को रोकने के लिए डीएमआरसी को अवरोधक लगाने चाहिए. विशेष उल्लेख के जरिये ही मनोनीत सदस्य सोनल मानसिंह ने कहा कि नयी शिक्षा नीति में सरकार को सांस्कृतिक धरोहर का समावेश करना चाहिए. कांग्रेस के प्रो एम वी राजीव गौड़ा ने किसानों और ग्रामीण आय को बढ़ावा देने के लिए प्रधानमंत्री किसान योजना की समीक्षा करने की जरूरत पर जोर दिया. उन्होंने मांग की कि किसानों को दी जा रही सालाना 6,000 रुपये की राशि को बढ़ाया जाना चाहिए.