लंदन. भगोड़ा घोषित किया जा चुका विजय माल्या बुधवार को लंदन की एक अदालत में अपने प्रत्यर्पण के मामले की सुनवाई के लिए पेश हुआ. इसमें न्यायाधीश भारतीय अधिकारियों द्वारा मुंबई जेल में शराब व्यावसायी के लिए की गई तैयारी के वीडियो की समीक्षा करेंगे.Also Read - विजय माल्या, नीरव मोदी और मेहुल चोकसी से बैंकों में लौटे 18,000 करोड़ रुपये- केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट को बताया

Also Read - Contempt case: सुप्रीम कोर्ट ने अवमानना केस में विजय माल्या को आखिरी मौका दिया, ये है मामला

किंगफिशर एयरलाइन के 62 वर्षीय प्रमुख पिछले साल अप्रैल में जारी प्रत्यर्पण वारंट के बाद से जमानत पर है. उसपर भारत में करीब 9000 करोड़ रूपये के धोखाधड़ी और धनशोधन के आरोप हैं. इससे पहले जुलाई में वेस्टमिन्स्टर मजिस्ट्रेट की अदालत की न्यायाधीश एमा अर्बुथनाट ने कहा था कि उनके ‘संदेहों को दूर करने के लिए’ भारतीय अधिकारी आर्थर रोड जेल की बैरक नंबर 12 का ‘सिलसिलेवार वीडियो’ जमा करने को कहा था. Also Read - Vijay Mallya: लंदन में अपने आलीशान घर से बेदखल होगा विजय माल्या, UBS बैंक को बेचने का अधिकार मिला

सीपीएस ने की थी जिरह
भारत सरकार की तरफ से क्राउन प्रासिक्यूसन सर्विस (सीपीएस) ने जिरह की थी और वीडियो अदालत के लिए रजामंदी जताई थी. वीडियो अदालत में जमा कर दिया गया है. माल्या का बचाव करने वाले दल ने जेल के निरीक्षण की मांग की थी ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि प्रत्यर्पण प्रक्रिया को ब्रिटेन के मानवाधिकार संबंधी वादे को पूरा करता है.