मुंबईः हिंदुत्व विचारक विनायक दामोदर सावरकर के पोते रंजीत सावरकर को उच्च रक्तचाप की शिकायत के बाद शुक्रवार देर रात अस्पताल में भर्ती कराया गया. सूत्रों ने शनिवार को यह जानकारी दी. बताया जा रहा है कि 55 वर्षीय सावरकर अपने दादा को लेकर विवाद के बाद काफी तनाव में थे. Also Read - पटोले बोले भारत रत्न पर शिवसेना के अलग हमारा स्‍टैंड, सावित्रीबाई फुले, शाहूजी महाराज को मिलेे सम्‍मान

मध्यप्रदेश में कांग्रेस से जुड़े सेवादल द्वारा वितरित एक पुस्तिका के बाद विवाद छिड़ गया, जिसमें सावरकर की देशभक्ति और वीरता पर सवाल उठाये गए हैं. इस मामले में वे कई बार महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री से भी मिलने की कोशिश में थे लेकिन उनकी मुलाकात नहीं हो सकी. Also Read - Vinayak Damodar Savarkar Jayanti 2020: पीएम मोदी ने 'मन की बात' में वीर सावरकर का पेश किया उदाहरण

जानकारी के अनुसार ‘‘रंजीत अपने दादा के पक्ष में बात रखने के लिए टेलीविजन स्टूडियो के चक्कर लगा रहे थे और इससे उनकी सेहत पर बुरा असर पड़ा. कल रात उनका रक्तचाप 220 तक बढ़ गया, जिसके बाद उन्हें माहिम के रहेजा फोर्टिस अस्पताल में भर्ती कराया गया.’’ उन्होंने बताया कि रंजीत सावरकर को आईसीयू में भर्ती कराया गया और उनकी हालत अब स्थिर है. Also Read - "बेहद आहत" महसूस करता हूं, जब कोई सावरकर की आलोचना करता है: गडकरी

रणजीत सावरकर के सहयोगी संजय ने बताया, ‘उन्हें शुक्रवार की रात 10:30 बजे अस्पताल में भर्ती कराया गया. दिनभर की भागदौड़ के बाद उनका ब्लड प्रेशर हाई हो गया था और साथ ही साथ सांस लेने में भी दिक्कत आ रही थी अभी फिलहाल वह ठीक है और उन्हें एक से दो दिन में डिस्चार्ज किया जा सकता है.’