दिल्ली के लेडी श्रीराम की छात्रा गुरमेहर कौर के वीडियो के जवाब में ट्वीट कर आलोचना के घेरे में आए वीरेंद्र सहवाग ने एक के बाद एक तीन ट्वीट कर सफाई दी है। हालांकि कल सहवाग ने इस पर किसी तरह की प्रतिक्रिया देने से इनकार कर दिया था।Also Read - अखिलेश यादव से मिले उमर खालिद के पिता, योगी आदित्यनाथ बोले- अगर ये लोग आएंगे तो क्या करेंगे

सहवाग ने पहला ट्वीट किया- मेरा ट्वीट मजाकिया अंदाज वाला था, किसी की टांग खिंचाई करना मेरा मकसद नहीं था। सहमत या असहमत होना कोई मुद्दा ही नहीं था। Also Read - Delhi Riots: उमर खालिद ने पुलिस की आपत्ति के बाद नई जमानत अर्जी दायर की, जानिए क्या है मामला

Also Read - उमर खालिद ने कोर्ट में कहा- दिल्ली दंगे साजिश थे, पुलिस के दावों में विरोधाभास, वकील बोले- यही सच है

दूसरे ट्वीट में सहवाग ने गुरमेहर के बारे में लिखा। उन्होंने कहा- किसी को भी अपनी राय रखने का हक है। अगर कोई उन्हें जाने से मारने की धमकी या रेप की धमकी देता है तो ये जिंदगी का सबसे निंदनीय काम है।

आखिरी ट्वीट में सहवाग ने कहा कि किसी को भी बिना डर के अपने विचार रखने का हक है। चाहे वह गुरमेहर हो या फोगाट बहनें।

बता दें कि पिछले साल मई में गुरमेहर कौर के पोस्ट किए गए वीडियो पर इस कदर घमासान मचा कि देशभर में बहस छिड़ गई। इस वीडियो में गुरमेहर एक तख्ती लिए हुए हैं जिसमें लिखा है – मेरे पिता को पाकिस्तान ने नहीं, युद्ध ने मारा। इसके जवाब में सहवाग ने ट्वीट किया- दो तिहरे शतक मैंने नहीं मेरे बल्ले ने मारे।

शुरुआत हुई दिल्ली के रामजस कॉलेज में जेएनयू छात्र उमर खालिद के भाषण को लेकर। एबीवीपी ने विरोध करते हुए खालिद को भाषण ही नहीं देने दिया। इसके बाद आइसा और एबीवीपी के छात्रों में जमकर घमासान हुआ जिसमें कुछ छात्रों को चोटें भी आईँ।