भुवनेश्वर. विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) ने बुधवार को कहा कि अस्पृश्यता हिंदू मूल्यों के खिलाफ है और इसे किसी धर्म में स्वीकृति नहीं दी गई है. वीएचपी ने कहा कि नवंबर में कर्नाटक के उडुपी में सभी जाति व संप्रदाय के नेता और संत साथ आए और यह स्पष्ट करते हुए जातिवाद की निंदा की कि छुआछूत हिंदुत्व की उपज नहीं है.Also Read - विश्व हिंदू परिषद ने कहा- हमारे मंदिरों को वापस करे केंद्र सरकार, क्योंकि जब गुरुद्वारे और मस्जिदों का...

किसी के लिए किसी भी तरह का कोई पूर्वाग्रह नहीं होना चाहिए क्योंकि हिंदू समाज में हर किसी को बराबरी के साथ देखा जाना चाहिए. Also Read - UP: चंपत राय के खिलाफ FB में आपत्तिजनक बातें पोस्ट पर महिला समेत तीन लोगों के खिलाफ मामला दर्ज

वीएचपी के प्रबंधन और न्यासी समिति बोर्ड की बैठक में पारित एक प्रस्ताव के मुताबिक, ‘अस्पृश्यता हिंदू विचारधारा के खिलाफ है और इसे किसी धर्म में स्थान नहीं दिया गया है.’ वीएचपी के अंतरराष्ट्रीय महासचिव प्रवीण तोगड़िया ने इस बैठक का उद्घाटन किया और इसमें 35 देशों के प्रतिनिधि भी शामिल हुए. Also Read - ‘लव जिहाद’ बर्दाश्त नहीं, कानून बनाए सरकार: विश्व हिन्दू परिषद