कोलकाता: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना कोलकाता के बीरभूम जिले में स्थित विश्व भारती विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह में शामिल हुए हैं. इस समारोह की बड़ी बात ये है कि इसमें राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को भी न्योता दिया गया है और वो भी इसमें शामिल हुई हैं. विपक्षी एकता बनाने की बात करने वाली ममता बनर्जी इस समारोह में पीएम मोदी के साथ मंच शेयर करेंगी, प्रधानमंत्री इस यूनिवर्सिटी के चांसलर भी हैं. पीएम मोदी ने अपना भाषण शुरू करते ही पानी की कमी को लेकर छात्रों से माफी मांगी.

पीएम मोदी ने समारोह में शामिल होने के लिए बांग्लादेश की पीएम शेख हसीना का शुक्रिया किया, पीएम ने कहा, ”बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना हमारे बीच में हैं भारत और बांग्लादेश दो अलग अलग देश हैं लेकिन हमारे हित एकसमान हैं. बात चाहे संस्कृति की हो या पब्लिक पॉलिसी की हम दोनों देश एक दूसरे से सीखते हैं. बांग्लादेश भवन इसका एक उदाहरण है.”

ममता का आना खास क्यों?

इस कार्यक्रम में ममता बनर्जी का आना इसलिए खास है कि आमतौर पर मुख्यमंत्री इस विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह में शिरकत नहीं करते लेकिन ममता बनर्जी ऐसा करके एक नई परंपरा बना रही हैं. विश्वविद्यालय के वाइस चांसलर साबुजकली सेन ने बताया कि, इससे पहले आखिरी बार 1976 में तत्कालीन मुख्यमंत्री सिद्धार्थ शंकर रे ने विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह में शिरकत की थी.”

इस समारोह में शिरकत करने के बारे में ममता बनर्जी का कहना है कि, ”मैं नहीं जानती कि विश्व भारती विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह में इससे पहले किसी मुख्यमंत्री ने चांसलर के साथ शिरकत नहीं की है, मुझे विश्वविद्यालय द्वारा बुलाया गया है मैं इस ऐतिहासिक इवेंट का हिस्सा बनने जा रही हूं, मैं यहां आम इंसान की तरह जा रही हूं.” शांतिनिकेतन पहुंचने पर ममत बनर्जी ने पीएम मोदी का स्वागत भी किया.

ममत ने विश्वविद्यालय द्वारा दिए जाने वाले अवॉर्ड देसीकोट्टम को कैंसिल किए जाने पर भी अपनी असहमति जताई. विश्व भारती यूनिवर्सिटी ने पहले ये योजना बनाई थी कि पीएम मोदी के हाथ से इस अवॉर्ड को अमिताभ बच्चन, अमिताव घोष, द्विजेन मुखर्जी, गुलजार, जोगेन चौधरी, सुनीति कुमार पाठक और अशोक सेन जैसी हस्तियों को दिया जाएगा. हालांकि बाद में यूनिवर्सिटी ने समय की कमी का हवाला देते हुए इस योजना को कैंसिल कर दिया.

बांग्लादेश भवन का होगा उद्घाटन
ममता ने कहा कि वो शनिवार को बांग्लादेश की पीएम शेख हसीना से भी मुलाकात करेंगी हालांकि ये एक शिष्टाचार भेंट ही होगी. शेख हसीना से मुलाकात के बारे में ममता ने कहा, ”हम दोनों एक दूसरे को पसंद करते हैं, हसीना जी जब विपक्ष की नेता थीं तब भी हम अक्सर एक दूसरे से मिलते रहते थे.” ममता ने तीस्ता जल संधि पर हसीना से किसी भी बातचीत से इनकार किया. इससे पहले कोलकाता एयरपोर्ट पहुंचने पर राज्य के राज्यपाल केसरीनाथ त्रिपाठी और केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो ने पीएम मोदी का स्वागत किया. इस दौरान एक छोटी बच्ची ने भी पीएम मोदी को गुलाब का फूल देकर स्वागत किया.

दीक्षांत समारोह के बाद पीएम मोदी, पीएम शेख हसीना और सीएम ममता बनर्जी विश्व भारती विश्वविद्यालय में ही बांग्लादेश भवन का उद्घाटन करेंगे. संस्थान के अधिकारियों ने बताया कि प्रधानमंत्री मोदी, बांग्लादेश की पीएम शेख हसीना के साथ भारत और बांग्लादेश के सांस्कृतिक संबंधों के प्रतीक ‘बांग्लादेश भवन’ का उद्घाटन करेंगे और वहां एक द्विपक्षीय बैठक करेंगे. पुलिस ने बताया कि पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिले के बोलपुर उपसंभाग में स्थित शांतिनिकेतन में बहुस्तरीय सुरक्षा व्यवस्था की गई है.

बांग्लादेश की पीएम शेख हसीना, विदेश मंत्री अबुल हसन महमूद अली, शिक्षा मंत्री नूरूल इस्लाम नाहिद और सांस्कृतिक मंत्री असदुज्जमाम नूर समेत 150 अतिथि इस समारोह में शामिल हो रहे हैं. विश्वविद्यालय के वीसी ने बताया कि, बांग्लादेश भवन का प्रशानिक कार्य विश्व भारती द्वारा ही किया जाएगा.