नई दिल्ली: आतंकवाद के मसले पर पाकिस्तान के साथ तनाव के चरम पर पहुंचने के बीच भारत को अंतरराष्ट्रीय समुदाय से लगातार समर्थन मिल रहा है. इसी क्रम में भारत के सबसे भरोसेमंद दोस्त रहे रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को फोन करके पुलवामा आतंकवादी हमले पर दुख जताया और आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में भारत के प्रति एकजुटता व्यक्त की.

प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से जारी एक बयान के अनुसार, मोदी ने सीमापार से आतंकवादी हमलों से अपने हितों की रक्षा के लिए भारत के प्रयासों के प्रति समर्थन जताने के लिए पुतिन को धन्यवाद दिया. प्रधानमंत्री मोदी ने टेलीफोन पर हुई इस बातचीत के दौरान आतंकवाद से निपटने में द्विपक्षीय सहयोग को मजबूत करने की भारत की प्रतिबद्धता दोहरायी. पुतिन ने इस वर्ष व्लादिवोस्तोक में होने वाले ‘ईस्टर्न इकोनामिक फोरम’ के लिए मोदी को आमंत्रण दोहराया. गौरतलब है कि पाकिस्तान के साथ 1965 और 1971 में हुए युद्ध के वक्त तत्कालीन सोवियत रूस ने भारत की सहायता की थी. भारत आज तक रूस के उस सहयोग का अभारी है.