नई दिल्लीः कोरोना वायरस (Coronavirus) को लेकर चीन (China) को काफी समय से आलोचनाएं झेलनी पड़ रही हैं. कई बड़े देश इस महामारी को लेकर चीन पर निशाना साध रहे हैं और उस पर महामारी की गंभीरता को छुपाए जाने का आरोप लगा रहे हैं. यही नहीं कई देशों का तो यह भी मानना है कि यह महामारी चीन का बनाया जैविक बम है, जिसे उसने दुनियाभर में जान-बूझकर फैलाया है. Also Read - कोरोना वायरस वैक्सीन बनाने में मदद करेगी गुजरात कोविड म्यूटेशन अध्ययन, जानिए क्या है एक्सपर्ट की राय 

कोरोना वायरस को लेकर चीन पर लगातार सवाल उठ रहे हैं, क्योंकि इस महामारी की उत्तपत्ति भी चीन के वुहान प्रांत से ही हुई थी. इस बीच कई विदेशी कंपनियां चीन से अपना कारोबार समेटने में जुटी हुई हैं. जिनमें नया नाम जुड़ गया है जर्मनी की बड़ी जूता कंपनी Von Wellx का. जो अब चीन में जूता निर्माण का काम बंद करने जा रही है. Also Read - थूक के इस्‍तेमाल पर रोक से बिगड़ेगा गेंद-बल्‍ले का संतुलन, अनिल कुंबले का सुझाव, पिच में हो बदलाव

लेकिन, इस बीच भारत के लिए अच्छी खबर यह है कि Von Wellx अब चीन में कारोबार समेटने के बाद उत्तर प्रदेश के आगरा में प्रोडक्शन यूनिट शुरू करने जा रही है. बता दें Von Wellx अपने बेहतरीन फुटविर्यस के लिए दुनियाभर में मशहूर है और लोग इसके जूते बड़े शौक से खरीदते हैं. ऐसे में अब जब यह कंपनी चीन से अपना कारोबार समेट रही है और आगरा में जूता बनाने की फैक्ट्री डालने जा रही है तो यह देश के लिए बड़ी खुशखबरी भी है. Also Read - Pakistan Coronavirus Update: 24 घंटे में सबसे ज्यादा मामले आए सामने, संक्रमितों की संख्या 80 हजार के पार

दुनियाभर में अपने बेहतरीन शू-कलेक्शन के लिए मशहूर Von Wellx का दावा है कि इसके जूते पहनने में ना सिर्फ कंफर्टेबल और फैंसी हैं, बल्कि इसका निर्माण कुछ ऐसे किया जाता है कि इसके इस्तेमाल से पैर, घुटने और कमर दर्द की समस्या से भी राहत मिलती है. दुनिया भर के अलग-अलग देशों में करीब 10 लाख से ज्यादा लोग Von Wellx के फुटवियर्स का इस्तेमाल करते हैं और दुनिया के अलग-अलग कोने में इसके 500 से ज्यादा रीटेल स्टोर्स हैं.