नई दिल्ली: संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने कोरोना वायरस संक्रमण को देखते हुए अपनी पांच अस्थाई सीटों के लिए अगले माह नई चुनाव प्रक्रिया के तहत चुनाव कराने का निर्णय किया है और एशिया प्रशांत सीट के लिए इकलौता दावेदार होने के कारण भारत को यह सीट मिलना तय है. Also Read - सबूतों की कमी की वजह से श्रीलंका क्रिकेट ने 2011 विश्व कप 'मैच फिक्सिंग' जांच बंद की

महासभा ने शुक्रवार को ‘कोरोना वायरस महामारी के दौरान पूर्ण बैठक के बिना गुप्त मतदान द्वारा चुनाव कराने की प्रक्रिया’ संबंधी एक निर्णय अंगीकार किया. इस फैसले के अनुसार सुरक्षा परिषद के अस्थाई सदस्यों का चुनाव, तथा आर्थिक और सामाजिक परिषद के सदस्यों का चुनाव पूर्ण सत्र के बगैर जून 2020 में कराया जाएगा. Also Read - इतिहास गवाह है कि विस्तारवादी ताकतें या तो हार गईं या वापस लौटने के लिए मजबूर हुईं हैं: PM मोदी

पांच अस्थाई सदस्यों के लिए 2021-22 सत्र के लिए चुनाव 17 जून को होने थे. भारत अस्थाई सदस्य सीट का उम्मीदवार है और एशिया प्रशांत ग्रुप से इकलौता उम्मीदवार होने के नाते उसकी जीत तय है. Also Read - राष्‍ट्रपति शी के नेतृत्व में चीन ने भारत के प्रति आक्रामक विदेश नीति अपनाई है: US आयोग की रिपोर्ट

गौरतलब है कि भारत की उम्मीदवारी का पिछले साल जून में एशिया प्रशांत ग्रुपिंग के 55 सदस्यों ने सर्वसम्मति से अनुमोदन किया था. इनमें चीन और पाकिस्तान भी शामिल हैं. भारत के दृष्टिकोण से चुनाव प्रक्रिया में किसी भी तरह के बदलाव से उसकी उम्मीदवारी पर कोई असर नहीं पड़ेगा.

(इनपुट भाषा)