मथुरा: उत्तर प्रदेश के मथुरा जनपद में पुलिस ने खुफिया विभाग की मदद से साधू बनकर रह रहे दो बांग्लादेशी नागरिकों को गिरफ्तार किया है. इन दोनों ने दो स्थानीय युवकों के सहयोग से सभी प्रकार के स्थानीय पहचान पत्र भी हासिल कर लिए थे. Also Read - कमाल है: उप्र में अनुमति के बिना दाढ़ी रखने पर मुस्लिम पुलिसकर्मी निलंबित

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक बबलू कुमार ने बताया, ‘‘वृन्दावन में स्थानीय अभिसूचना इकाई के उप निरीक्षक कुंवर पाल सिंह से मिली सूचना के अनुसार दो ऐसे बांग्लादेशी युवकों को पकड़ने में सफलता हासिल की गई है जो पिछले दो माह से न केवल वहां वेश बदलकर रहे थे. बल्कि, उन्होंने इतने कम समय में पैन कार्ड, आधार कार्ड, पासपोर्ट व विश्वविद्यालय के पहचान पत्र तक बनवा लिए थे.’’ Also Read - पहल: उप्र के इस जिले ने पेश की मिसाल, घर की नेमप्लेट पर मां, पत्नी या बेटी का नाम

उन्होंने बताया, ‘‘इन युवकों ने अपना परिचय जोय देवनाथ पुत्र किरन चन्द देवनाथ निवासी धामकी थाना देवीदुआर जिला कुमेला, तथा नोनी देवनाथ पुत्र डा. रविन्द्र देवनाथ निवासी गंगानगर, नूरमानिकचर थाना देवीद्वारा जिले कुमेला के रूप में दिया है. इनके कब्जे से 4 मोबाइल फोन भी बरामद किए गए हैं.’’ Also Read - सात महीने बाद सिर्फ एक दिन के लिए खुला 'बांके बिहारी मंदिर', फिर से बंद किए गए कपाट, ये है बड़ी वजह

एसएसपी ने बताया, ‘‘उनके लिए फर्जी आईडी बनाने वाले युवकों राकेश गौर पुत्र घनश्याम सिंह गौर निवासी गोदाआटस, थाना वृन्दावन तथा शुभम पुत्र शिवशंकर लाल निवासी गौरानगर, (चार सम्प्रदाय के पीछे), थाना वृन्दावन, की तलाश में दबिशें दी जा रही हैं. जबकि गिरफ्तार किए गए बांग्लादेशी युवकों को विधिक कार्यवाही के पश्चात जेल भेज दिया गया है.’’

(इनपुट: एजेंसी)