भोपाल, 24 सितम्बर – मध्य प्रदेश के व्यावसायिक परीक्षा मंडल (व्यापमं) घोटाले की जांच कर रहे केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने गुरुवार को राजधानी भोपाल स्थित व्यापमं के दफ्तर सहित मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश के विभिन्न स्थानों पर दबिश दी। सीबीआई की इस कार्रवाई को काफी अहम माना जा रहा है। उल्लेखनीय है कि सीबीआई सर्वोच्च न्यायालय के निर्देश पर व्यापमं घोटाले की जांच कर रही है। सीबीआई इस मामले में 90 से ज्यादा प्राथमिकी पहले ही दर्ज कर चुकी है। इस मामले से जुड़े लोगों की मौत की भी जांच कर रही है। यह पहली ऐसी कार्रवाई है, जिसमें सीबीआई ने अपने भोपाल में बनाए गए दफ्तर से बाहर निकलकर कई स्थानों पर दबिश दी है। यह भी पढ़ें- व्यापमं घोटाला : राज्यपाल रामनरेश यादव के बेटे की मौत की सीबीआई जांच शुरू Also Read - Coronavirus से देश में अबतक 29 मौतें, कुल संक्रमितों की संख्‍या 1,071 हुई: Health Ministry

सूत्रों के अनुसार, सीबीआई के कई दलों ने राजधानी भोपाल के व्यापमं दफ्तर के अलावा इंदौर, उज्जैन, जबलपुर और उत्तर प्रदेश के कानपुर एवं लखनऊ आदि जगहों पर दबिश दी है। इस मामले में पूर्व मंत्री लक्ष्मीकांत शर्मा, व्यापमं के अधिकारी पंकज त्रिवेदी, नितिन महेंद्रा, के.सी. मिश्रा एवं अन्य आरोपी जेल में हैं। इनके आवासों पर भी सीबीआई ने छापा मारा है। Also Read - कोरोना के खिलाफ जंग में बड़ी कामयाबी, देश की इस बेटी ने बनाई 1200 रुपये की किट, टेस्ट शुरू

सीबीआई जांच से पूर्व इस घोटाले की जांच कर रहे विशेष कार्य बल (एसटीएफ ) ने कुल 55 प्रकरण दर्ज किए थे। घोटाले के सिलसिले में 21,00 आरोपियों की गिरफ्तारी हो चुकी है, जबकि 491 आरोपी अब भी फरार हैं। Also Read - Covid-19 : भारत में कोरोना के 1 हजार मामले, घर जाने को बेताब प्रवासी मजदूर, यूरोप में लगा लाशों का ढेर