नई दिल्ली. आप परिवार के साथ ट्रेन में सफर करने वाले हों, लेकिन सीट कन्फर्म न हो तो परेशानी का अंदाजा लगाया जा सकता है. लेकिन रेलवे ने अब चलती ट्रेन में वेटिंग टिकट कन्फर्म करने और टिकट जांच की सुविधा शुरू कर दी है. रेलवे ने ट्रेन रनिंग स्टाफ यानी टीटीई को ऐसी मशीन से लैस करने की योजना बनाई है, जो सफर के दौरान यात्रियों का वेटिंग टिकट कन्फर्म कर सकेंगे. साथ ही टिकटों की जांच भी कर सकेंगे. चलती ट्रेन में टिकट की जांच तथा उपलब्ध सीट दूसरे यात्रियों को मुहैया कराने के लिए रेलवे जल्द ही अपने कर्मचारियों को हैंड हेल्ड टर्मिनल (एचएचटी) उपकरण प्रदान करेगा. रेलवे बोर्ड के एक परिपत्र में कहा गया है कि शुक्रवार को पटना राजधानी ट्रेन में एचएचटी उपकरण सुविधा की शुरुआत की गई और जल्द ही समूचे देश में इसे उपयोग में लाया जा सकेगा. यह परिपत्र 11 दिसंबर को जारी हुआ है. इसमें कहा गया है, ‘‘चलती ट्रेन में कंप्यूटर आधारित टिकट की जांच तथा खाली सीटों के आवंटन के लिए रेलवे ने एचएचटी उपकरण शुरू करने की एक परियोजना पर विचार किया था और इसका परीक्षण किया गया. देशभर में इसे शुरू करने की तैयारी है.’’

इस तरह की व्यवस्था से ट्रेन में खाली सीट के बारे में अपने आप पता लग जाएगा. अधिकारी ने कहा, ‘‘इससे प्रतीक्षा सूची के यात्रियों को भी खाली सीट उपलब्ध कराने में सहूलियत होगी. इससे यात्रियों को संतुष्टि होगी. ज्यादा बुकिंग से रेलवे का भी राजस्व बढ़ेगा. साथ ही, डिजिटल इंडिया अभियान को भी बढ़ावा मिलेगा.’’ उन्होंने कहा कि इस तरह के उपकरण से टिकट जांच करने वाले कर्मचारी को भी सहूलियत होगी. उनके टर्मिनल उपकरण पर उपलब्ध सीटों का विवरण होगा और आरक्षण चार्ट भी नहीं देखना पड़ेगा. रेलवे की इस नई व्यवस्था से वेटिंग टिकट पर यात्रा करने को मजबूर लोगों को बड़ी राहत मिलेगी. क्योंकि उन्हें सफर के बीच ही सीट मिलने की संभावना रहेगी.

(इनपुट – एजेंसी)