नई दिल्ली: देशभर में नागरिकता कानून (CAA) व एनआरसी (NRC) के बीच छिड़ी बहस के बीच शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसिम रिजवी (Wasim Rizvi) ने एक विवादित बयान दिया है. रिजवी ने आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत (RSS Chief Mohan Bhagwat) के जनसंख्या नियंत्रण कानून (Population Control Policy) के विचार पर सहमति व्यक्त किया है. रिजवी ने जनसंख्या नियंत्रण पर बात करते हुए सोमवार को कहा कि जानवरों की तरह और ज्यादा बच्चों को पैदा करना इस देश के लिए नुकसानदायक है. यह बयान मोहन भागवत के जनसंख्या नियंत्रण कानून वाले बयान के बाद आया है.

रिजवी ने आगे कहा कि कुछ लोग इस बात में यकीन रखते हैं कि जन्म देना एक प्राकृतिक प्रक्रिया है. लेकिन कई बच्चों को जानवरों की तरह जन्म देना समाज और देश दोनों के लिए हानिकारक है. ऐसी स्थिति से निपटने के लिए देश में जनसंख्या नियंत्रण कानून को लागू कर देना चाहिए. बता दें कि मोहन भागवत ने कहा था कि जनसंख्या बढ़ोतरी एक मुद्दा है इसलिए इसपर योजना बनाने की जरूरत है.

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने पहले दिए गए दो बच्चे वाले बयान को दोहराते हुए कहा कि मैं सिर्फ ये कह रहा हूं कि जनसंख्या वृद्धि एक समस्या है और इस प्रभाव मौजूदा संसाधनों पर भी पड़ेगा. इसके लिए सरकार को एक मसौदा तैयार करना चाहिए. यह नियम ही तय करेगा कि एक इंसान के कितने बच्चे होने चाहिए. मैं कोई कानून नहीं बना रहा क्योंकि यह मेरा काम नहीं है.