West Bengal Assembly Election 2021: पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को एक एक करके कई तगड़े झटके लगने लगे हैं. विधानसभा चुनावों से पहले अगर TMC में फूट और नाराजगी होती है तो यह ममता बनर्जी और टीएमसी के भविष्य के लिए नुकसानदायक साबित हो सकता है. इसी कड़ी में टीएमसी के असंतुष्ट विधायक मिहिर गोस्वामी ने पार्टी को छोड़ने की इच्छा जताई थी. वह भाजपा के सांसद निशिथ प्रमाणिक के साथ नई दिल्ली के लिए रवाना हो चुके हैं. अब देखना यह है कि गोस्वामी का अगला कदम क्या होने वाला है. क्या वे भाजपा में शामिल होंगे. क्योंकि गोस्वामी ने पार्टी से नाराजगी को साफ कर दिया है और साफ साफ कह चुके हैं कि वे पार्टी में और अधिक अपमान सहन नहीं कर सकते हैं. Also Read - Bengal Polls: शुभेंदु अधिकारी ने Mamata Banerjee पर फिर बोला हमला- 'अभी से ही उन्हें पूर्व CM लिखा लेटर पैड तैयार रखना चाहिए'

गुरुवार को गोस्वामी ने कहा कि उनके लिए पार्टी के साथ अपना जुड़ाव जारी रखना मुश्किल होगा, क्योंकि वे और अधिक अपमान नहीं सहन कर सकते हैं. बता दें कि गोस्वामी कूचबिहार दक्षिण से टीएमसी के विधायक हैं. इन्होंने भाजपा सांसद प्रमाणिक से पहले ही अक्टूबर महीने में मुलाकात कर ली थी. गोस्वामी का कहना है कि उन्होंने कई मौकों पर अपमान को सहा है और पचाया है. लेकिन वे मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के प्रति निष्ठा के कारण पार्टी से जुड़े रहे थे. Also Read - Suvendu adhikari का बड़ा चैलेंज-Mamata Banerjee को 50000 वोटों से नहीं हराया तो, छोड़ दूंगा....

बंगाली भाषा में अपने लिखे फेसबुक पोस्ट में गोस्वामी ने कहा कि ऐसा लगने लगा है कि मेरा तृणमूल के साथ रह पाना मुश्किल है. मैं पार्टी के साथ पिछले 22 वर्षों से जुड़ा हुआ है. TMC बीते कुछ दिनों में उन्हें वापस पार्टी के साथ छोड़ने का प्रयास भी कर चुकी है. Also Read - West Bengal Polls 2021: शुभेंदु अधिकारी का ममता बनर्जी पर हमला- 'नंदीग्राम से TMC प्रमुख को 50 हजार वोटों से नहीं हराया तो...'

बता दें कि ममता बनर्जी को एक एक कर कई झटके लग रहे हैं. मसलन मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के बेहद खास माने जाने वाले तृणमूल कांग्रेस के नेता शुभेंदु अधिकारी ने पार्टी से नाराजगी के बीच मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है. बता दें कि इससे एक दिन पहले ही उन्होंने हुगली रिवर ब्रिज कमीशन के चेयरमैन के पद से इस्तीफा दिया था. बता दें कि शुभेंदु अधिकारी ने फिलहाल केवल मंत्री पद से इस्तीफा दिया है पार्टी में वे अब भी बने हुए हैं, लेकिन इस इस्तीफे के बाद से TMC से शुभेंदु के अलग होने को लेकर अटकले तेज हो गई हैं.