नई दिल्‍ली: नागरिकता संशोधन विधेयक (CAB) के विरोध में दिल्‍ली में जामिया मिलिया इस्‍लामिया यूनिवर्सिटी, अलीगढ़ मुस्‍लिम यूनिवर्सिटी, पश्चिम बंगाल, असम समेत कई जगह भड़की हिंसा के बीच सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 5 ट्वीट करके कहा है कि यह समय शांति, एकता और भाईचारा बनाए रखने का है. सभी से अपील है कि किसी भी तरह की अफवाह और झूठ से दूर रहें. पीएम ने कहा, समय की आवश्यकता है कि हम सभी भारत के विकास और प्रत्येक भारतीय, विशेषकर गरीब, दलित और हाशिए के सशक्तिकरण के लिए मिलकर काम करें. हम निहित स्वार्थी समूहों को हम विभाजित करने और अशांति पैदा करने की अनुमति नहीं दे सकते.

पीएम ने कहा कि नागरिकता संशोधन अधिनियम पर हिंसक विरोध दुर्भाग्यपूर्ण और गहरा दुखद है. पीएम ने कहा, बहस, चर्चा और असंतोष लोकतंत्र के आवश्यक अंग हैं, लेकिन कभी भी सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान नहीं पहुंचा है और सामान्य जीवन की अशांति हमारे लोकाचार का हिस्सा है.

नागरिकता संशोधन अधिनियम, 2019 को संसद के दोनों सदनों द्वारा भारी समर्थन के साथ पारित किया गया था. बड़ी संख्या में राजनीतिक दलों और सांसदों ने इसके पारित होने का समर्थन किया. यह अधिनियम भारत की सदियों पुरानी संस्कृति की स्वीकृति, सद्भाव, करुणा और भाईचारे को दर्शाता है.

मैं अपने साथी भारतीयों को असमान रूप से आश्वस्त करना चाहता हूं कि सीएए किसी भी धर्म के भारत के नागरिक को प्रभावित नहीं करता है. किसी भारतीय को इस अधिनियम के बारे में चिंता करने की कोई बात नहीं है. यह अधिनियम केवल उन लोगों के लिए है, जिन्होंने वर्षों से उत्पीड़न का सामना किया है और भारत को छोड़कर उनके पास जाने के लिए कोई अन्य जगह नहीं है.

समय की आवश्यकता है कि हम सभी भारत के विकास और प्रत्येक भारतीय, विशेषकर गरीब, दलित और हाशिए के सशक्तिकरण के लिए मिलकर काम करें. हम निहित स्वार्थ समूहों को हम विभाजित करने और अशांति पैदा करने की अनुमति नहीं दे सकते.
यह शांति, एकता और भाईचारा बनाए रखने का समय है. सभी से अपील है कि किसी भी तरह की अफवाह और झूठ से दूर रहें.