नई दिल्ली. 2 जी स्प्रैक्ट्रम पर बीजेपी के हमले का सबसे ज्यादा शिकार रहे पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने CBI कोर्ट के फैसले के बाद बयान दिया है. मनमोहन ने कहा कि हमारे खिलाफ जो प्रोपोगेंडा चलाया गया था, उसपर कोर्ट ने रोक लगा दी है. मैं 2जी पर कोर्ट के फैसले का सम्मान करता हूं. हमपर खराब नीयत से आरोप लगाए गए थे. फैसला अपने आप में सब कह रहा है. 

2 जी घोटालाः 20 सेकेंड में आया फैसला... सभी आरोपी हो गए बरी

2 जी घोटालाः 20 सेकेंड में आया फैसला... सभी आरोपी हो गए बरी

मनमोहन के अलावा पूर्व केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल ने पीएम से सदन से बाहर आकर इसपर स्पष्टीकरण की मांग कर डाली है. सिब्बल ने कहा कि ये सरकार (एनडीए) 2 जी और अन्य घोटालों के नाम पर ही बनी थी लेकिन अब यह साबित हो चुका है कि यह विपक्ष के झूठ का घोटाला था, न कि 2 जी स्पैक्ट्रम घोटाला.

सिब्बल ने कहा कि आज मेरी बात सिद्ध हो गई. कोई करप्शन था ही नहीं, कोई घाटा नहीं हुआ. अगर घोटाला है तो झूठ का घोटाला है, विनोद राय और विपक्ष के झूठ का घोटाला है. विनोद राय को देश से माफी मांगनी चाहिए. विनोद राय जिस भी पद पर हैं, सरकार उन्हें तुरंत बर्खास्त करे. बता दें कि 2 जी मामले में कपिल सिब्बल ने ही जीरो लॉस की थ्योरी दी थी जिसका बीजेपी ने पुरजोर विरोध किया था.

वहीं, पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने कहा कि सरकार पर लगा भ्रष्टाचार का आरोप कभी सही नहीं था. आज यह साबित भी हो गया है. बता दें कि 2 जी मामले में आरोपी भले ए राजा रहे हों लेकिन बीजेपी ने 2014 के चुनाव से लेकर गुजरात चुनाव तक इसे भुनाए रखा और कांग्रेस के जो तीन नेता इस पूरे समय के दौरान उसके निशाने पर रहे, उनमें पूर्व पीएम मनमोहन सिंह, पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम और पूर्व कैबिनेट मिनिस्टर कबिल सिब्बल ही थे.