श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर की पूर्व सीएम और पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती ने कहा कि उनकी पार्टी संविधान के अनुच्छेद 35-ए को बचाने के लिए हर त्याग करेगी. संविधान के अनुच्छेद 35-ए को सुप्रीम कोर्ट में कानूनी चुनौती का सामना करना पड़ रहा है. मध्य कश्मीर के गांदरबल जिले के कंगन में रविवार को पीडीपी कार्यकर्ताओं की एक सभा को संबोधित करते हुए महबूबा ने कहा कि उनकी पार्टी अनुच्छेद 35-ए को बचाए रखने के लिए प्रतिबद्ध है.Also Read - केंद्रीय मंत्री जावड़ेकर ने कहा- ‘देश हित प्रथम’ की नीति पर बढ़ रहे हैं आगे

Also Read - Latest Updates on Jammu Kashmir: ऐतिहासिक फैसले के बाद कश्मीर में CRPF के 8,000 और जवान भेजे गए

क्या अनुच्छेद 35-ए संविधान के मूल ढांचे के खिलाफ है, सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई इसी माह में Also Read - कश्मीर के बंटवारे पर बोलीं महबूबा मुफ्ती- धारा 370 खत्म करना 'विनाशकारी' होगा

पूर्व सीएम ने कहा, ”मेरी सरकार के दौरान, मैंने बड़े वकीलों की सेवा लेने से लेकर देश एवं राज्य में अनुच्छेद 35-ए के संरक्षण की जरूरत के बारे में राजनीतिक जागरूकता पैदा करने के पूरे प्रयास किए.” महबूबा ने कहा, ”भविष्य में भी जो भी जरूरत होगी, मैं और मेरी पार्टी राज्य के विशेष दर्जे के संरक्षण के लिए करेंगे.”

अनुच्छेद 35-A को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर जनवरी 2019 में होगी सुनवाई

पीडीपी अध्यक्ष ने कहा कि जम्मू-कश्मीर में समस्याएं सुलझाना और भारत-पाक मित्रता सुनिश्चित कर दक्षिण एशिया में शांति की दिशा में काम करना पार्टी के बुनियादी सिद्धांतों में शामिल है. उन्होंने कहा, अपने गठन के बाद से ही पीडीपी पूरी गंभीरता से इन उद्देश्यों को पूरा करने के प्रयास कर रही है.

अनुच्छेद 35A हटाए जाने की अफवाहों पर कश्मीर में कई जगह प्रदर्शन, बाजार बंद

महबूबा ने कहा, जब हमारी पार्टी ने 2002 में कांग्रेस के साथ सरकार बनाई तो हमने इन बुनियादी लक्ष्यों की प्राप्ति और राज्य में आम लोगों को राहत दिलाने के लिए योजना तैयार की. उन्होंने कहा कि भाजपा के साथ मिलकर सरकार चलाने के दौरान भी पीडीपी ने अनुच्छेद 370 के संरक्षण, राज्य में सभी पक्षों से संवाद और भारत-पाक शांति प्रक्रिया की बहाली के अपने मूल एजेंडा पर काम जारी रखा.