Weather Forecast:भारतीय मौसम विभाग ने शनिवार सुबह जारी किए गए पूर्वानुमान में बताया कि बंगाल की खाड़ी में उत्तर पूर्व और पूर्व मध्य हिस्से में बना हवा का डिप्रेशन आज और गहरा हो सकता है और इससे चक्रवात जैसे हालात बन सकते हैं और इसके मजबूत होने से ओडिशा और आंध्र प्रदेश में अगले तीन दिन में भारी बारिश होने की संभावना है. इस चक्रवात का नाम गुलाब रखा गया है, जिसके वजह से आंध्र प्रदेश और इससे सटे दक्षिणी ओडिशा के तट पर, पूर्वी मध्य प्रदेश और आसपास हवा के ऊपरी भाग में एक चक्रवात बना हुआ नजर आ रहा है. इसकी वजह ये है कि बंगाल की खाड़ी में हवा का एक गहरा और कम दबाव का क्षेत्र बन गया है.Also Read - Weather Forecast: दिसंबर से फरवरी तक 6 राज्यों में सामान्य से अधिक बारिश की संभावना: मौसम विभाग

Also Read - Weather Latest Update: मौसम विभाग ने दी चेतावनी-मुंबई में भारी बारिश, ओडिशा में तूफान का अलर्ट जारी

इन राज्यों में अगले पांच दिनों तक भारी बारिश का है अलर्ट Also Read - Weather Update: मुंबई में आज भारी बारिश का अनुमान, महाराष्ट्र समेत इन राज्यों में भी बरसेंगे बादल; जानें IMD का अपडेट

इस चक्रवातीय संरचना के बनने से अगले 5 दिनों के दौरान पूर्वी राजस्थान, पश्चिम मध्य प्रदेश, गुजरात राज्य और कोंकण और गोवा में भारी वर्षा के साथ व्यापक रूप से व्यापक वर्षा होने की संभावना है. वहीं मौसम विभाग के मुताबिक 25-26 सितंबर को गुजरात क्षेत्र के ऊपर बहुत भारी वर्षा; सौराष्ट्र और कच्छ में 26 और 27 सितंबर को भारी बारिश की संभावना जताई गई है.

मौसम विभाग की मानें तो 25 से 28 सितंबर के दौरान ओडिशा, तटीय आंध्र प्रदेश और यनम और तेलंगाना में भारी बारिश हो सकती  की है और वहीं 26 और 27 सितंबर को ओडिशा में और 26 सितंबर को तटीय आंध्र प्रदेश और यमन में भी बहुत भारी बारिश की संभावना है.

आज इन राज्यों में होगी बारिश

विभाग ने बताया है कि अभी मानसून की ट्रफ लाइन नौगांव से होकर बंगाल की खाड़ी की ओर जा रही है और इसके साथ ही सौराष्ट्र पर भी हवा के ऊपरी भाग में एक चक्रवात बना हुआ है. इन चार वेदर सिस्टम के प्रभाव से मध्य प्रदेश में बारिश की संभावना है तो वहीं मौसम विज्ञानियों के मुताबिक शनिवार को भोपाल, इंदौर, उज्जैन, होशंगाबाद संभाग के जिलों में गरज–चमक के साथ बारिश हो सकती है.

वर्तमान में मानसून की ट्रफ लाइन भी जैसलमेर, अजमेर, नौगांव, डाल्टनगंज, जमशेदपुर, दीघा से होते हुए बंगाल की खाड़ी तक बनी हुई है. बंगाल की खाड़ी में बना सिस्टम 26 सितंबर को ओडिशा के तट पर पहुंचेगा और इसके प्रभाव से मप्र में शुरू हुआ बारिश का सिलसिला तीन-चार दिन तक जारी रहेगा.