Weather Latest Update: भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने आज यानी बुधवार को  विदर्भ के पश्चिमी हिस्सों पर कम दबाव के क्षेत्र के साथ गुजरात, उत्तरी कोंकण, उत्तर-मध्य महाराष्ट्र और मराठवाड़ा में तेज बारिश की संभावना जताई है. IMD ने मंगलवार को कहा था कि उत्तर ओडिशा के कुछ जगहों पर 30 सितंबर तक भारी बारिश हो सकती है. महाराष्ट्र के कई इलाकों के लिए आईएमडी ने बुधवार के लिए ‘येलो अलर्ट’ जारी किया है, जो ‘बिजली, तेज हवाओं और गरज के साथ अलग-अलग स्थानों पर भारी बारिश’ का संकेत देता है.Also Read - Delhi Rains: दिल्ली-एनसीआर में मौसम ने बदला मिजाज, सुबह से हो रही बारिश, कल भी बरसेंगे बादल

आईएमडी मुंबई के वरिष्ठ वैज्ञानिक के. एस. होसलीकर ने कहा, ‘गुलाब चक्रवात का शेष प्रभाव मराठवाड़ा, मध्य महाराष्ट्र, कोंकण पर जारी रहेगा और कुछ स्थानों पर बेहद भारी बारिश होगी. कोंकण के उत्तरी हिस्से और मध्य महाराष्ट्र में बुधवार को अधिक वर्षा होगी.’ Also Read - Red-Orange Alert In Kerala: केरल के 5 जिलों में भारी से भारी बारिश, 7 जिलों में भारी बारिश का अलर्ट जारी

तेलंगाना के लिए रेड अलर्ट जारी
आईएमडी ने तेलंगाना के 14 जिलों के लिए रेड अलर्ट जारी किया, जिनमें निर्मल, निजामाबाद, जगित्याल, राजन्ना सिर्सिल्ला, करीमनगर, पेद्दापल्ली, भद्राद्री कोथागुडेम, खम्मम, महबूबाबाद, वारंगल (ग्रामीण), वारंगल (शहरी), जनगांव, सिद्दीपेट और कामारेड्डी जिले शामिल हैं. मौसम विभाग ने इन जिलों में अलग-अलग स्थानों पर भारी से बहुत भारी बारिश की चेतावनी दी है. Also Read - Weather Update: इन राज्यों में अगले तीन दिन होगी बारिश, केरल में बरस रहे बादल, जानिए मौसम का मिजाज

ओडिशा-पश्चिम बंगाल के तटीय क्षेत्रों में भारी बारिश की संभावना

आईएमडी भुवनेश्वर के निदेशक एचआर बिस्वार ने बताया है कि मौसम पूर्वानुमान के अनुसार, अगले 24 घंटों के दौरान ओडिशा के उत्तरी तटीय क्षेत्रों में मध्यम वर्षा और कुछ क्षेत्रों में भारी वर्षा होगी. इसे देखते हुए मछुआरों को 30 सितंबर तक समुद्र में नहीं जाने की सलाह दी जा रही है.

निदेशक ने कहा कि इसके साथ ही ओडिशा और पश्चिम बंगाल के आसपास के तटीय क्षेत्रों पर एक निम्न दबाव का क्षेत्र बना है, जिसके कारण अगले 2 दिनों के दौरान झारखंड और पश्चिम बंगाल से सटे जिलों में भारी से भारी वर्षा होगी.

महाराष्ट्र में दिख रहा है चक्रवाती तूफान का असर, बारिश से भारी तबाही

चक्रवाती तूफान गहरा कम दबाव के क्षेत्र में तब्दील होकर पश्चिमी महाराष्ट्र में सक्रिय है. इस सिस्टम के बुधवार को अरब सागर के गुजरात तट में पहले से हवा के ऊपरी भाग के रूप में बने चक्रवात से मिलकर पुन: शक्तिशाली होने की संभावना है. उत्तरी कोंकण से लेकर तटीय आंध्र प्रदेश तक पूर्व-पश्चिम ट्रफ बना हुआ है. इन तीन सिस्टम के सक्रिय रहने से बुधवार को इंदौर, उज्जैन संभागों के जिलों में बारिश होने की संभावना है.

इन राज्यों में 1 अक्टूबर तक भारी बारिश का अलर्ट

उधर, 28 सितंबर से 1 अक्टूबर तक राजस्थान के कई जिलों के लिए येलो अलर्ट जारी किया गया है. 29 सितम्बर से 1 अक्टूबर तक अजमेर और उदयपुर संभाग के जिलों में बारिश हो सकती है. मौसम विभाग ने इन जिलों के लिए येलो अलर्ट जारी किया है.

29 सितंबर को गुजरात राज्य में अलग-अलग स्थानों पर भारी से बहुत भारी वर्षा के साथ अत्यधिक भारी वर्षा होने की संभावना है. वहीं गंगीय पश्चिम बंगाल, ओडिशा, झारखंड, उत्तरी मध्य महाराष्ट्र, उत्तरी कोंकण में बहुत भारी वर्षा और फिर  मराठवाड़ा में छिटपुट स्थानों पर भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है.

मौसम विभाग के मुताबिक देश के पूर्वोत्तर और इससे सटे पूर्व-मध्य बंगाल की खाड़ी पर चक्रवाती परिसंचरण के प्रभाव में, बंगाल की उत्तर-पश्चिमी खाड़ी और पश्चिम बंगाल के आसपास के तटीय क्षेत्रों पर एक निम्न दबाव का क्षेत्र बन गया है. दोपहर तक यह वेल मार्क्ड लो प्रेशर एरिया बन गया है.

महाराष्ट्र में 13 लोगों की मौत, 24 घंटे के भीतर भारी बारिश की चेतावनी

मुंबई सहित महाराष्ट्र के कई हिस्सों में गुलाब तूफान का असर दिखाई दे रहा है. यवतमाल में बस बह जाने से तीन यात्रियों की मौत हो गई और ड्राइवर के लापता होने की खबर है. मराठवाड़ा में लगातार हो रही तेज बारिश के कारण पिछले 48 घंटों में 13लोग मारे गए एवं 200 से ज्यादा पशु बह गए.  मौसम विभाग ने अगले 24 घंटे ऐसी ही बारिश होने की आशंका जताई है।

इसके अलावा 30 सितंबर के आसपास उत्तर पूर्व अरब सागर और उससे सटे गुजरात तट में  तूफान के उभरने की संभावना है और बाद के 24 घंटों के दौरान पूर्वोत्तर अरब सागर के ऊपर डिप्रेशन में इस प्रणाली के और अधिक तीव्र होने की संभावना है.