नई दिल्ली: दिल्ली और NCR में लगातार पारा निम्न स्तर पर बना हुआ है. पूरा उत्तर भारत शीतलहर की चपेट में है. मौसम विभाग की ओर से जारी रिपोर्ट के अनुसार मैदानी इलाकों में इस बार तापमान पहली बार शून्य से नीचे पहुंचा है. दिल्ली से लगभग 160 किलोमीटर दूर हरियाणा के हिसार और पंजाब के भटिंडा में पारा -1 डिग्री सेलसियस तक जा पहुंचा है. वहीं बुधवार की सुबह दिल्ली का तापमान चार साल के रिकॉर्ड न्यूनतम स्तर पर दर्ज किया गया.

मौसम विभाग के मुताबिक, दिल्ली, पंजाब, हरियाणा और राजस्थान जबरदस्त शीतलहर की चपेट में है और शुक्रवार तक ऐसा ही मौसम रहने वाला है. विभाग की ओर से जो रिपोर्ट जारी की गई है, उसमें दावा किया गया है कि जिस तरह की शीतलहर और ठंड इस साल मैदानी इलाकों में देखने को मिल रही है, वह सामान्य नहीं है. मैदानी इलाकों में हर साल पारा शून्य के नीचे नहीं जाता.

बुधवार को हरियाणा के हिसार में ठंड का स्तर पिछले 11 साल के रिकॉर्ड स्तर पर दर्ज किया गया. बुधवार को इस शहर का तापमान -1 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया. ऐसा 11 साल पहले वर्ष 1973 में देखा गया था, जब पारा -1.5 डिग्री पहुंच गया था.

दरअसल, पहाड़ी इलाकों में लगातार बर्फबारी देखने को मिल रही है. जिसका असर मैदानी राज्यों पर भी हो रहा है. पश्चिमी हिमालय की कई नदियां और झीलें ठंडे मौसम के कारण जमने लगी हैं. मौसम विभाग के अनुसार इस बार पहाड़ी इलाकों में ठंड की शुरुआत चरम पर हुई है, जिसके कारण पानी में बर्फ जमने लगी है. बुधवार को मनाली में बर्फबारी हुई है. वहीं श्रीनगर में तापमान 3.7 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया. हालांकि श्रीनगर में दो दिन पहले पारा -6.8 डिग्री सेल्सियस था.

राहत के आसार नहीं:

दिल्ली में तापमान 3.6 डिग्री सेल्सियस है. मौसम विभाग की रिपोर्ट के अनुसार दिल्ली और एनसीआर में फिलहाल ठंड से कोई राहत की सूरत नजर नहीं आ रही है. नये साल तक दिल्ली और एनसीआर का पारा और गिर सकता है. गुरुवार की सुबह दिल्ली और एनसीआर में कोहरा देखा गया. मौसम जानकारों का कहना है कि अगले कुछ दिनों तक सुबह कोहरा देखने को मिल सकता है.

IMD के क्षेत्रीय मौसम विज्ञान केंद्र के प्रमुख बीपी यादव ने बताया कि 29 और 30 दिसंबर को दिल्ली और एनसीआर का पारा 3 डिग्री से भी नीचे जा सकता है.