नई दिल्ली: आईएमडी ने आगामी दिनों में मानसून के चलते कई राज्‍यों में तेज गरज, बिजली चमकने और तीव्र हवाओं के साथ भारी बारिश का अनुमान जाया है. अगले 4-5 दिनों के दौरान पूर्व और पूर्वोत्तर भारत में भारी से बहुत भारी वर्षा का अनुमान जताया है. Also Read - शिवराज मंत्रिमंडल का हो गया विस्तार, 20 कैबिनेट और 8 राज्यमंत्री शामिल

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग ने देश की राजधानी में शनिवार को बारिश होने के बाद मानसून आने तक रुक-रुककर बारिश होने का अनुमान जताया है. यह बारिश पाकिस्तान से असम तक बने कम दबाव के क्षेत्र का परिणाम हैं. Also Read - क्या ज्योतिरादित्य सिंधिया के खेमे से होगा अगला उपमुख्यमंत्री? जानें इस रेस में कौन है सबसे आगे

उत्तर पाकिस्तान और जम्मू कश्मीर में पश्चिमी विक्षोभ भी सक्रिय है. बारिश से क्षेत्र में पारा गिरेगा. अधिकतम तापमान अगले चार-पांच दिनों में 35 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहने का अनुमान है. निजी मौसम पूर्वानुमान सेवा स्काईमेट वेदर के महेश पलावत ने बताया कि 24-25 जून के आसपास मानसून आने तक बारिश जारी रहेगी. इसका मतलब है कि राष्ट्रीय राजधानी में कुछ दिनों के लिए सुबह और शाम में हल्की बारिश हो सकती है. Also Read - आज होगा शिवराज मंत्रिमंडल का विस्तार, असंतोष को दबाने की कवायद शुरू

मौसम विशेषज्ञों के अनुसार, मानसून के दिल्ली में 27 जून तक दस्तक देने की संभावना थी, लेकिन पश्चिम बंगाल और आसपास के क्षेत्र में चक्रवाती सर्कुलेशन के कारण अब यह दो-तीन दिन पहले आ सकता है. यह चक्रवाती सर्कुलेशन 19 और 20 जून को दक्षिणपश्चिम उत्तर प्रदेश की ओर बढ़ गया.

आईएमडी के मुताबिक, इससे मानसून को आगे बढ़ने में मदद मिली जो पूर्वी उत्तर प्रदेश और मध्य मध्यप्रदेश पहुंच गया है. इसके 22 जून तक पश्चिमी उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के कुछ हिस्सों तक पहुंचने की संभावना है. उन्होंने बताया कि इसके बाद अगले दो-तीन दिन में यह दिल्ली, हरियाणा और पंजाब में दस्तक देगा.

मध्य प्रदेश के कुछ और हिस्सों में दक्षिण-पश्चिम मानसून का आगे बढ़ना और यूपी और उत्तराखंड के कुछ हिस्से 22 और 23 जून के दौरान और पूरे पश्चिमी हिमालयी क्षेत्र, हरियाणा, चंडीगढ़ और दिल्ली में, पंजाब के अधिकांश हिस्सों, अरब सागर, गुजरात राज्य, एमपी और यूपी के शेष हिस्सों और 24 और 25 जून के दौरान राजस्थान के कुछ हिस्सों में बारिश होगी.

– अगले 4-5 दिनों के दौरान पूर्व और पूर्वोत्तर भारत में भारी से बहुत भारी वर्षा होगी
– छत्तीसगढ़, बिहार, झारखंड, ओडिशा, पूर्वी मध्य प्रदेश, केरल-माहे, तटीय कर्नाटक, उत्तराखंड के अलग-थलग जगहों पर भारी से बहुत भारी बारिश की संभावना है

– अगले 4-5 दिनों के दौरान पूर्व और पूर्वोत्तर भारत में बहुत भारी से बहुत भारी वर्षा के साथ व्यापक वर्षा जारी रहने की संभावना है

– अगले 5 दिनों के दौरान मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ और 21-23 जून के दौरान विदर्भ में अलग-अलग भारी बारिश की संभावना है
– बहुत व्यापक रूप से भारी से बहुत भारी गिरने की संभावना वाले पृथक से व्यापक वर्षा गतिविधि के लिए व्यापक रूप से व्यापक

मॉनसून की उत्तरी सीमा (एनएलएम) कांडला, अहमदाबाद, इंदौर, रायसेन, खजुराहो, फतेहपुर और बहराइच से होकर गुजरती है. आगे के लिए परिस्थितियाँ अनुकूल होती जा रही हैं.